जम्मू, दिनेश महाजन : बाबा बर्फानी के दर्शनों के लिए आने वाले श्रद्धालुओं के रहने व खाने पीने की व्यवस्था के लिए यात्रा के बालटाल और पहलगाम रूट से लंगर कमेटियां अहम भूमिका निभा रही है। उच्च न्यायालय के निर्देशानुसार पिछले कई वर्षों की तरह इस बार भी लंगरों में तला हुआ व्यंजन जंक फूड और मिठाइयां श्रद्धालुओं को नहीं परोसी जा रही। बल्कि श्रद्धालुओं को सादा रोटी, दाल और चावल ही दी जा रही है।

समुद्र तल से 3888 मीटर की ऊंचाई पर स्थित पवित्र अमरनाथ गुफा की ओर बालटाल व पहलगाम से जाने वाले मार्गों पर कुछ दूरी के अंतराल पर शिव भक्तों के लिए लंगर की व्यवस्था की गई है। इन लंगरों में श्रद्धालु ना सिर्फ खाने के लिए पौष्टिक भोजन बल्कि सफर में विश्राम करने के लिए सुविधाएं उपलब्ध करवाई जा रही है। इस बार अमरनाथ यात्रा के दौरान कुल 118 लंगर लगाए गए है। प्रतिदिन इन लंगरों में 5 से 7 हजार श्रद्धालुओं के लिए खाना बनाया जाता है।

लंगरों में लग्जरी होटल वाली सुविधाएं मिल रही : कानपुर से आकर बालटाल में लंगर लगाने वाली संस्था शिव सेवक समिति के सदस्य अशोक कुमार ने बताया कि सुबह तड़के से ही उनके पास भीड़ शुरू हो जाती है। यात्रा के हर गुजरते दिन के साथ बढ़ेगी। लंगर में सेवा करने वाले उनके साथी काफी उत्साहित है। सब खुद को धन्य महसूस कर रहे है। यात्रा शुरू होने से पूर्व ही उनकी टीम बालटाल में लंगर के बुनियादी ढांचे को खड़ा करने में पहुंच गए थे। चूंकि इस काम के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ी है। लंगर को डेढ़ माह तक चलाने के लिए जरूरी वस्तुओं को वह साथ लेकर आए है। उनके साथ 50 लोगों की टीम है। श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड के सख्त दिशा-निर्देशों का पूरा पालन किया जा रहा है। पहले लंगर में बहुत सारे व्यंजन परोसते थे, लेकिन इस साल सभी तली हुई चीजों और फास्ट फूड पर पाबंदी है।

लंगरों में इन चीजों पर है पाबंदी : मांसाहार, शराब, तंबाकू और गुटखा पर पाबंदी रहती ही है, लेकिन इस बार पुलाव, फ्राइड राइस, पूरी, भटूरा, पिज्जा, बर्गर, तले पराठे, डोसा, तली हुई रोटी, ब्रेड बटर, अचार, चटनी, पापड़, नूडल्स, कोल्ड ड्रिंक, हलवा, जलेबी, चिप्स, मठ्ठी, नमकीन, मिक्सचर, पकोड़ा, समोसा और हर तरह की डीप फ्राइड चीजें नहीं मिलेंगी।

यात्रा मार्गों पर इन स्थानों पर लगे है लंगर

  • बालटाल कैंप
  • बालटाल-दोमेल के बीच
  • दोमेल
  • रेलपत्री
  • बरारीमार्ग
  • संगम
  • नुनवान
  • चंदनवाड़ी
  • चंदनवाड़ी-पिस्सूटॉप के बीच
  • पिस्सूटॉप
  • जोजीबल
  • नागाकोटी
  • शेषनाग
  • वावबल
  • पोषपत्री
  • केलनार
  • पंचतरणी
  • पवित्र गुफा 

Edited By: Rahul Sharma