श्रीनगर, जेएनएन : कश्मीर में अल्पसंख्यकों व प्रवासी लोगों पर हो रहे हमलों को देखते हुए जम्मू-कश्मीर पुलिस और सीआरपीएफ ने उन्हें सुरक्षा देने का खाका तैयार कर लिया है। जिन इलाकों में अल्पसंख्यक समुदाय के लोग या फिर प्रवासी लोग रह रहे हैं, उन इलाकों की निगरानी ड्रोन के जरिए की जाएगी। यही नहीं लाल चौक सहित सभी संवेदनशील इलाकों में आतंकवादी हमलों को रोकने के लिए अतिरिक्त नाके भी बढ़ाए जाएंगे।

कश्मीर में अल्पसंख्यकों व प्रवासी लोगों पर हो रहे हमलों को देखते हुए जम्मू-कश्मीर पुलिस और सीआरपीएफ ने उन्हें सुरक्षा देने का खाका तैयार कर लिया है। जिन इलाकों में अल्पसंख्यक समुदाय के लोग या फिर प्रवासी लोग रह रहे हैं, उन इलाकों की निगरानी ड्रोन के जरिए की जाएगी। यही नहीं लाल चौक सहित सभी संवेदनशील इलाकों में आतंकवादी हमलों को रोकने के लिए अतिरिक्त नाके भी बढ़ाए जाएंगे।

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह शनिवार 23 अक्टूबर को कश्मीर पहुंच रहे हैं। उनके आने से एक दिन पहले कश्मीर में सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा करते हुए श्रीनगर के प्रताप पार्क इलाके में पुलिस और सीआरपीएफ ने ड्रोन का परीक्षण भी किया। सीआरपीएफ के डीआइजी मैथ्यू ए जॉन ने इस दौरान पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि सीआरपीएफ ने पुलिस के साथ ड्रोन का परीक्षण किया है जिसका इस्तेमाल उन क्षेत्रों में निगरानी रखने के लिए किया जाएगा, जहां अल्पसंख्यक समुदाय के लोग रह रहे हैं। सीआरपीएफ के डीआईजी ने कहा, "अल्पसंख्यक समुदाय के लोग और प्रवासी मजदूरों पर हालिया हमलों के मद्देनजर यह कदम उठाया गया है।

आपको बता दें कि केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह कल शनिवार को श्रीनगर पहुंच रहे हैं। उनके आगमन को देखते हुए भी सुरक्षा व्यवस्था को कड़ा किया गया है। लाल चौक सहित सभी संवेदनशील इलाकों में नाके बढ़ा दिए गए हैं। सुरक्षाकर्मियों की भी तैनात की गई है। इसके अलावा इन इलाकों में भी ड्रोन के जरिए नजर रखी जाएगी। आतंकी इस दौरान किसी वारदात को अंजाम न दें, इसको देखते हुए संदिग्ध गतिविधियों पर कड़ी नजर रखी जा रही है।

डीआइजी सीआरपीएफ जॉन ने कहा कि आतंकवादी संगठन किसी वारदात को अंजाम न दे सकें इसके लिए सुरक्षा व्यवस्था को कड़ा बनाया गया है। लाल चौक में संदिग्धों पर कड़ी नजर रखने के लिए पुलिस और सीआरपीएफ द्वारा संयुक्त रूप से चौबीसों घंटे अतिरिक्त नाके लगाए गए हैं।

Edited By: Rahul Sharma