जम्मू, जेएनएन। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 और 35-ए हटाने और इसे केंद्र शासित प्रदेश घोषित करने से पहले केंद्र सरकार के निर्देश पर जम्मू शहर में लागू की धारा 144 पांचवें दिन हटा दी गई। डीसी जम्मू ने इस संबंध में आदेश जारी करते हुए कल शनिवार 10 अगस्त से सभी स्कूल-कालेज खोलने की अनुमति भी दे दी है। 

शुक्रवार को प्रशासन की ओर लगाई गई पाबंदियों के बीच शहर की सभी मस्जिदों में शांतिपूर्वक ढंग से नवाज पढ़ी गई। एहतियात के तौर प्रशासन ने सभी धार्मिक स्थलों के आसपास सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए थे। आपात स्थित से निपटने के लिए रैपिड एक्शन फोर्स (आरएएफ) के जवानों को विशेष तौर पर तैनात किया गया था। वहीं, शहर के विभिन्न हिस्सों में जनजीवन पटरी पर लौटता नजर आए। प्रशासन ने यात्री वाहनों को हालांकि सड़क पर उतरने को मना किया था, बावजूद इसके कुछ रूट पर मिनीबस दौड़ते हुए नजर आए।

प्रशासन ने जुमे की नवाज के मद्देनजर दुकानदार को दोपहर तीन बजे के करीब बाजार खोलने की हिदायत दी थी। जम्मू सिटी नार्थ (पुराने शहर) थाना क्षेत्रों में प्रशासन दोपहर तीन बजे तक किसी भी बाजार को खुलने नहीं दिया। पिछले कुछ दिनों से शहर में पुलिस के अलावा केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल के जवान तैनात किया थे, लेकिन शुक्रवार को पुलिस के साथ आरएएफ के जवानों को तैनात किया गया था। पुराने शहर के सिटी, पीर मिट्ठा, पक्काडंगा, बस स्टैंड, जानीपुर, बख्शी नगर थाना क्षेत्रों में चार के अधिक लोगों को एकत्रित नहीं होने दिया। पाबंदियों को इतनी सख्ती से लागू किया गया था कि सुबह के समय शहर में चल रही मिनीबसों को सुरक्षा बलों ने बंद कर दिया। शाम के बाद दुकानों के खुलने का सिलसिला शुरू हो गया था।

वहीं, सिटी साउथ पुलिस डिवीजन के अंतरगत आने वाले गांधी नगर, छन्नी हिम्मत, सतवारी, गंग्याल, बागे बाहू और त्रिकुटा नगर थाना क्षेत्रों में प्रशासन द्वारा लगाई गई पाबंदियों का असर नहीं दिया। गांधी नगर के अप्सरा रोड़ में शुक्रवार सुबह कुछ पुलिस कर्मी पहुंचे और दुकानदारों को दुकान बंद करने को कहा। इस बात को लेकर दुकानदार और पुलिस कर्मियों में कहासुनी भी हो गई। दुकानदारों का तर्क था कि इर्द आ रही है लोगों ने उनकी दुकान में खरीदारी करने के लिए आना है। डिवीजन के अन्य क्षेत्रों में सामान्य दिनों की तरह हीं दुकानें खुली रही। कई रूट पर मिनीबसें भी चल रही थी।

उधर, शहर से लगते रूरल पुलिस डिवीजन दोमाना, कानाचक्क, अखनूर, नगरोटा, झज्जर कोटली में ऐसा माहाैैल था कि वहां प्रशासन की ओर से पाबंदियां लगाई ही नहीं गई हो। शुक्रवार को जुमे की नवाज के मद्देनजर प्रशासन ने जिले से सभी दुकानदारों को दोपहर तीन बजे से रात आठ बजे तक दुकानें खोलने की इजाजत दी थी। प्रशासन के इस आदेश से उल्ट दिन भर दुकानें खुली रही और यात्री वाहन सड़कों पर दौड़ते रहे।

शहर में शांतिपूर्ण माहौल को देखते हुए डीसी जम्मू सुषमा चौहान ने शाम को आदेश जारी करते हुए म्यूनिसिपल क्षेत्राधिकार में धारा 144 हटाने का आदेश जारी किया। इसी आदेश में उन्होंने कल शनिवार से स्कूल-कालेज बदस्तूर खुलने की अनुमति भी दे दी। उन्होंने सरकारी कर्मचारियों वे अधिकारियों को भी निर्देश दिए कि वे कल से वे नियमित रूप से अपने कार्यालयों में उपस्थित रहें। डीसी जम्मू द्वारा जारी इस आदेश में मोबाइल इंटरनेट सेवा शुरू करने के बारे में फिलहाल कोई जानकारी नहीं दी गई है।

सीआरपीएफ की बजाए लगाई आरएएफ

शुक्रवार को जुमे की नवाज के दौरान कुछ शरारती तत्व वहां एकत्रित लोगों को भड़क कर प्रदर्शन ना करवा पाए इसके लिए प्रशासन ने पुख्ता बंदोबस्त किए थे। भीड़ से निपटने के लिए केन्द्रीय सरकार द्वारा बनाई गई रैपिड एक्शन फोर्स (आरएएफ) को विशेष तौर पर शहर की सड़कों पर तैनात किया गया था। जवानों ने बकायदा सिर पर हेलमेट, हाथ में डंडे और शील्ड पकड़े हुए थे।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस