जम्मू, अवधेश चौहान। अखनूर तहसील में चिनाब दरिया पर बनने वाले प्रदेश के सबसे बड़े परगवाल-इंद्रीपतन पुल का निर्माण फंड की कमी से रुक गया है। लोक निर्माण विभाग की देखरेख में इस पुल का निर्माण करवा रही वीकेजी कंपनी के महाप्रबधक रविन्द्र मिश्र का कहना है कि दिसंबर माह से फंड नहीं जारी होने से पुल का निर्माण कार्य ठप पड़ा है। उधर, पीडब्ल्यूडी के मुख्य अभियंता देसराज शर्मा का कहना है कि पुल के निर्माण का काम कोविड-19 के कारण बंद किया गया है, क्योंकि बाहरी राज्यों के श्रमिक अपने प्रदेश चले गए थे। फंड की कमी पर उन्होंने कहा कि निर्माण कार्य के लिए जल्द फंड जारी किया जाएगा।

वहीं, निर्माण कंपनी के महाप्रबंधक का कहना है कि उन्हें विभाग की ओर से आखिरी भुगतान बीते वर्ष 24 दिसंबर को हुआ था। तभी से पुल के निर्माण का काम रुका है। पुल का 25 प्रतिशत काम ही पूरा हो पाया है। महाप्रबंधक का कहना है कि बीते 20 माह में केवल 3 बार ही भुगतान हुआ है। कंस्ट्रक्शन कंपनी के अधिकारियों ने पुल के निर्माण कार्य को देख रही पब्लिक वर्क्‍स डिपार्टमेंट के चीफ इंजीनियर को भी पैसों के भुगतान के बारे में कई बार पत्र लिए हैं, लेकिन अभी तक कोई पैसा जारी नहीं हो पाया है। पुल का निर्माण कार्य केवल 25 प्रतिश्त ही पूरा हुआ है।

प्रधानमंत्री के मेगा प्रोजेक्टों में शामिल रहा है पुलः परगवाल-इंद्रीपतन पुल सामरिक दृष्टि से बेहद महत्वपूर्ण है। इस पुल के निर्माण से जम्मू के सीमावर्ती गांव परगवाल टापू में रहने वाले करीब 32 हजार ग्रामीणों को फायदा होना था। ये ग्रामीण पाकिस्तानी फायरिंग में फंस कर रह जाते हैं। यह पुल प्रधानमंत्री मोदी के मेगा प्रोजेक्टों में शामिल है। प्रधानमंत्री ने जम्मू कश्मीर और लद्दाख के लिए 44 हजार करोड़ रुपये की परियोजनाओं का नींव पत्थर बीते वर्ष संसदीय चुनावों से पहले अप्रैल माह में जम्मू के विजयपुर से रखा था।

नितिन गडकरी से मिलेंगे भाजपा के पूर्व विधायकः क्षेत्र के पूर्व विधायक कृष्णलाल भगत का कहना है कि निर्माण कार्य कोविड-19 से पहले का बंद है। इस संबंध में वे विभाग के चीफ इंजीनियर से मिल चुके हैं, लेकिन पैसे न मिलने से काम रुका है। हांलाकि चीफ इंजीनियर ने उन्हें आश्वासन दिया है कि पैसा जारी हो जाएगा। वे परिवहन मंत्री नितिन गडकरी से इस मसले को उठाएंगे, ताकि काम शुरू हो सके।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस