जम्मू, राज्य ब्यूरो: केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर के लिए 32 Pressure Swing Adsorption (PSA) प्लांट मंजूर किए हैं। इनकी क्षमता 24850 लीटर प्रति मिनट क्षमता है। 16 प्लांट कश्मीर संभाग और 16 जम्मू संभाग के लिए हैं। इसके साथ ही अभी तक मंजूर पीएसए प्लांट की संख्या 146 हो गई है। जम्मू-कश्मीर में अब आक्सीजन की क्षमता 1.25 लाख लीटर प्रति मिनट हो जाएगी।

जम्मू-कश्मीर में कोरोना की दूसरी लहर में आक्सीजन की बढ़ी मांग और संभावित तीसरी लहर को देखते हुए तृतीय देखभाल के सभी अस्पतालों, जिला अस्पतालों और कुछ प्रमुख कम्यूनिटी अस्पतालों में अाक्सीजन के लिए सरकार ने पीएम केसर्य फंड से पीएसए प्लांट लगाने का अनुरोध किया है। पीएसए प्लांट की विशेषाता यह है कि यह गैस को गैस में बदलता है। यह हवा से आक्सीजन को लेकर सीधा अस्पतालों में पंप कर दिया जाता है। जबकि लिक्यूड आक्सीजन प्लांट को प्लांट में गैस से लिक्यूड में बदला जाता है।

केंद्र शासित जम्मू और कश्मीर में कोविड -19 महामारी को देखते हुए स्वास्थ्य और चिकित्सा शिक्षा विभाग ने 37 प्रमुख अस्पतालों में 84 आक्सीजन जेनरेशन प्लांट स्थापित कर रहा है। इन प्लांट में 71650 लीटर प्रति मिनट आक्सीजन की क्षमता है। अभी तक 39,350 लीटर प्रति मिनट की क्षमता वाले 44 आक्सीजन जेनरेशन प्लांट स्थापित हो चुके हैं जबकि 31,750 लीटर प्रति मिनट की क्षमता वाले 40 आक्सीजन जेनरेशन प्लांट जुलाई महीने के अंत तक स्थापित होने की उम्मीद है।

जम्मू-कश्मीर में अप्रैल महीने से पहले तक आक्सीजन जेनरेशन की क्षमता सिर्फ 15,082 लीटर प्रति मिनट की थी। तीस आक्सीजन प्लांट तीस सीएचसी और उप जिला अस्पतालों में स्थापित हैं जबकि 15-15 जम्मू और कश्मीर में विश्व बैंक ने प्रायोजित किए हैं।

Edited By: Rahul Sharma