जागरण संवाददाता, जम्मू : मिलिट्री इंजीनियरिग सर्विस (एमईएस) में अपने बेटे को नौकरी दिलाने के लिए एक पिता ने दस्तावेजों में छेड़छाड़ कर अपने बेटे को एमईएस में मेट रहे अपने मृत भाई का बेटा बना दिया। फर्जी दस्तावेज तैयार कर नौकरी हासिल करने के मामले में क्राइम ब्रांच जम्मू ने बिश्नाह के रत्नाल गांव के पिता-पुत्र के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

कोर्ट के निर्देश पर दर्ज मामले में शिकायतकर्ता शंकर सिंह पुत्र तेजराम निवासी बिश्नाह ने बताया कि उनके पिता तेजराम एमईएस में कार्यरत थे। वे सेना की 56 एपीओ कालूचक्क में मेट की ड्यूटी करते थे। तेजराम की 27 सितंबर 1986 को सड़क हादसे में मौत हो गई थी। एमईएस में ही इलेक्ट्रिशियन के पद पर तैनात उसके चाचा बंसीलाल ने शंकर सिह के पिता की मौत के बाद पेंशन और परिवार के सदस्य को एमईएस में नौकरी दिलवाने का प्रयास शुरू किया था। शिकायतकर्ता को बताए बिना उसके चाचा बंसीलाल ने अपने बेटे दर्शन सिंह को एमईएस में चपरासी के पद पर तैनात करवा दिया। बंसीलाल ने दस्तावेजों में छेड़छाड़ कर दर्शन को तेजराम का बेटा बताया था। जुलाई 2012 में जब एमईएस द्वारा उसके घर कुछ दस्तावेज भेजे गए, तब इस धोखाधड़ी का पता चला। इस मामले में कार्रवाई करते हुए क्राइम ब्रांच ने जांच शुरू कर दी। दस्तावेजों को खंगालने से यह स्पष्ट हो गया कि बंसीलाल ने दस्तावेजों से छेड़छाड़ कर अपने बेटे दर्शन सिंह को नौकरी दिलवाई। इस आधार पर दोनों के विरुद्ध क्राइम ब्रांच थाने में मामला दर्ज किया गया।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस