जागरण संवाददाता, जम्मू : जम्मू बस स्टैंड में ग्रेनेड हमला करने वाला आतंकी यासीर व्यस्क निकला। पूछताछ के दौरान आतंकी ने नाबालिग होने का दावा किया था। उसने खुद को नौवीं कक्षा का छात्र बताया था। हमले का तीसरा आरोपित जुबेर अहमद पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ पाया है। जुबेर की धर पकड़ सुनिश्चित जम्मू पुलिस ने कुलगाम पुलिस से संपर्क किया है।

जम्मू जोन के इंस्पेक्टर जनरल ऑफ पुलिस एमके सिन्हा ने बताया कि ग्रेनेड हमले के आरेापित आतंकी यासीर जावेद की सही उम्र का पता लगाने के लिए जम्मू पुलिस ने स्वास्थ विभाग से डॉक्टरों के बोर्ड का गठन किया था जिन्होंने यासीर की हड्डियों व अन्य टेस्ट किए। बोर्ड सदस्यों ने यासीर की हड्डियों की जांच करने के बाद उसकी आयु करीब 19 वर्ष होने की रिपोर्ट दी है। डॉक्टरों की रिपोर्ट से स्पष्ट हो गया है कि आतंकी यासीर नाबालिग नहीं है। सूत्रों की मानें तो जांच रिपोर्ट को कोर्ट के समक्ष पेश किया जाएगा ताकि उसके साथ व्यस्क आतंकी जैसा व्यवहार किया जा सके। वहीं, यासीर को ज्वाइंट इंटेरोगेशन सेंटर में रखा गया है। राज्य पुलिस के अलावा अन्य सभी सुरक्षा एजेंसियां भी उससे पूछताछ कर आतंकियों के नेटवर्क बारे जानकारी जुटा रहा है। यासीर के खुलासे से जम्मू पुलिस ने उसे कुलगाम से जम्मू आने वाले गाइड शौकत अहमद निवासी कुलगाम को पकड़ा था। उनका तीसरा साथी जुबेर जो उनके ग्रेनेड हमला करने के लिए जम्मू आया था। जुबेर अभी पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ पाया है। काबिलेगौर है कि गत वीरवार को जम्मू बस स्टैंड में ग्रेनेड हमले में दो लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 33 लोग घायल हो गए थे। बस स्टैंड में लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज के आधार पर ग्रेनेड फेंकने वाले आतंकी को नगरोटा के बन टोल प्लाजा से दबोचा था, जब वह ग्रेनेड हमला कर कश्मीर घाटी में भागने की फिराक में था।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप