जम्मू, जेएनएन। पाकिस्तान अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद को बढ़ावा देने के लिए पाकिस्तानी सैनिक सीजफायर की आड़ में आतंकवादियों की घुसपैठ का प्रयास करवा रहे हैं। गत वीरवार रात को जहां जिला राजौरी के कालाकोट में आतंकवादियों ने घुसपैठ का प्रयास किया वहीं नियंत्रण रेखा से सटे सुंदरबनी सेक्टर के शेर टिकरी और ददल में भारतीय चौकियों को निशाना बनाते हुए पहले तो गोलीबारी की बाद में मोर्टार दागे। इस दौरान एक भारतीय जवान शहीद जबकि अन्य एक अन्य घायल हो गया।

सैन्य सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार शहीद जवान की पहचान हवलदार मथियाझगन पी के तौर पर हुई है। वह तमिलनाडु के सलेम जिले के श्रीरंगई कडु गांव के रहने वाले थे। जबकि घायल जवान की पहचान हवलदार एमएम करन के तौर पर हुई है। यूनिट में सैन्य अधिकारियों व जवानों द्वारा शहीद को श्रद्धांजलि अर्पित करने के बाद उनका पार्थिव शरीर आज सुबह अखनूर से जम्मू लाया गया और वहां से हवाई जहाज में दिल्ली भेज दिया गया। अधिकारी ने बताया कि वहां से शहीद का पार्थिव शरीर कोयंबटूर ले जाया जाएगा।

वहीं रक्षा प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल देवेंद्र आनंद ने शहीद को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि सेना पर तैनात हमारे जवान दुश्मन की हर नापाक हरकत का जवाब दे रहे हैं। हवलदार मथियाझगन ने दुश्मन का डटकर मुकाबला किया। वह इस दौरान गंभीर रूप से घायल हो गए, उन्हें सेना के अस्पताल में ले जाया गया परंतु वहां वह जीवन की जंग हार गए और उन्होंने दम तोड़ दिया। रक्षा प्रवक्ता ने कहा कि उनकी शहादत को हमेशा याद रखा जाएगा।

वहीं सेना सूत्रों ने बताया कि पाकिस्तान ने गत वीरवार रात 10.45 बजे संघर्ष विराम का उल्लंघन करते हुए नियंत्रण रेखा (एलओसी) से सटे शेर टिकरी और ददल में मोर्टार के साथ छोटे हथियारों से गोलाबारी की। भारतीय सेना ने भी जवाबी कार्रवाई की। इस दौरान दोनों जवान गंभीर रूप से घायल हो गए। दोनों को तुरंत अखनूर सैन्य अस्पताल पहुंचाया गया जहां हवलदार मथियाझगन पी ने जख्मों का ताव न सहते हुए दम तोड़ दिया जबकि हवलदार एमएम करन का उपचार चल रहा है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस