कुपवाड़ा, जेएनएन। कश्मीर के जिला कुपवाड़ा में नियंत्रण रेखा पर गश्त लगाते हुए भारतीय सेना का एक जवान खाई में फिसल जाने से शहीद हो गया। यह हादसा रविवार देर रात का है। जवान के पार्थिव शरीर को खाई से निकाल लिया गया है। उसकी पहचान 29 वर्षीय नायक पीरा राम निवासी राजस्थान के तौर पर हुई है। शहीद के साथियों व रेजिमेंट के वरिष्ठ अधिकारियों ने शहीद को श्रद्धांजलि अर्पित कर उसके पार्थिव शरीर को उसके पैतृक गांव भेज दिया है।

सैन्य सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जिला कुपवाड़ा नियंत्रण रेखा पर भारी बर्फबारी हुई है। माइन्स तापमान में भी भारतीय जवान सीमा की सुरक्षा को यकीनी बनाने के लिए दिन-रात चौकसी बनाए हुए हैं। एलओसी के साथ सटे करनाह सेक्टर में गत शाम सैनयकर्मियों का एक दल अग्रिम इलाके में नियमित गश्त पर था। पहाड़ी पर आगे बढ़ते हुए अचानक एक जवान का का पांव फिसल गया और वह नीचे खाई में जा गिरा।

गश्तीदल में शामिल अन्य जवानों ने तुरंत राहत काय्र शुरु किय और उसे खाई से बाहर निकाल निकटवर्ती अस्पताल पहुंचाया, जहां डाक्टरों ने उसे मृत लाया घोषित कर दिया। रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने बताया कि जिस इलाके में यह हादसा हुआ है, वह एलओसी के अग्रिम छोर पर है। वहां बर्फ की एक मोटी चादर बिछी हुई है। गश्त के दौरान जवान का पांव फिसल गया था। शहीद की पहचान पीरा राम के रुप में हुई है। वह राजस्थान में खीमापुर चौहाटन, जिला बाड़मेर के रहने वाले थे।

हिमस्खलन को लेकर चेतावनी

कश्मीर के जिला कुपवाड़ा, गांदरबल, बारामुला में अगले चौबीस घंटों के दौरान भारी बर्फबारी के साथ हिमस्खलन होने की चेतावनी दी गई है। इस चेतावनी के बाद सेना ने जवानों को सतर्क रहने को कहा है। जवानों ने नियंत्रण रेख से सटे सैन्य कैंपों व आम लोगों की सुरक्षा को यकीनी बनाने के लिए प्रबंध करना शुरू कर दिए हैं। सदन रहे कि मौसम में बदलाव के साथ घाटी में हुई पहली बार्फबारी के दौरान कश्मीर में चार जवानों, दो पोटर शहीद हो गए थे। इसके अलावा मौसम विभाग ने पुराने शहर में भी बर्फबारी होने की संभावना जताई है। जहां तक जम्मू के मैदानी इलाकों की बात है तो वहां भी हल्की बारिश हो सकती है।

Posted By: Rahul Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस