ऊधमपुर, जागरण संवाददाता: जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर रामबन जिले के केला मोड़ पर भूस्खलन से ढही दीवार की मरम्मत हाल-फिलहाल में पूरी होती नजर नहीं आती है। इसे बनने में दस दिन से अधिक समय लग सकते हैं। इस समय कश्मीर का शेष दुनिया से सड़क संपर्क कटा हुआ है। हालांकि, भूस्खलन वाले स्थान के पास सीमा सड़क संगठन यानी बीआरओ फिलहाल बैली पुल बना रहा है। यह अस्थायी पुल होगा। अभी इसका सामान पहुंचाया जा रहा है। इसके बनने में दो से तीन दिन लग जाएंगे। इसके बाद वाहनों की आवाजाही बहाल करने की कोशिश की जाएगी।

अस्थायी पुल बनाने के लिए सामान को रामबन पहुंचाया जा रहा है। रामबन जिला मुख्यालय से सात किलोमीटर दूर कश्मीर की ओर केला मोड़ इलाके में हाईवे पर टनल के नजदीक सुरक्षा दीवार गत रविवार को ढह गई थी। इससे हाईवे का काफी हिस्सा भी क्षतिग्रस्त हुआ है। तब से ही यह बंद है। मरम्मत का काम रविवार की रात से ही शुरू कर दिया गया था। मलबा हटाने के बाद मंगलवार को सुरक्षा दीवार भी बनाने का काम शुरू हो गया। निर्माण कर रही कंपनी के मुताबिक सुरक्षा दीवार बनाने के बाद उसके मजबूत होने के लिए सूखना जरूरी है। इसके बाद उसमें भराई की जाएगी।

सूखने से पहले यहां से यातायात खोल दिया गया तो यह फिर से टूट सकती है। निर्माण एजेंसी के मुताबिक इस काम में 15 से 20 दिन लग सकते हैं। एसएसपी ट्रैफिक रामबन जेएस जौहर ने कहा कि निर्माण एजेंसियां केला मोड़ में क्षतिग्रस्त हिस्से को ठीक होने में 15 से 20 दिन का समय लगने की संभावना जता रही हैं। इसलिए यातायात शुरू करने के लिए बीआरओ ने क्षतिग्रस्त हिस्से में बैली पुल बनाने का फैसला लिया है। बीआरओ को काम सौंप दिया गया है। बैली पुल का सामान रामबन में शाम तक पहुंचना शुरू हो जाएगा।

सामान पहुंचने के बाद अगले दो से तीन दिनों में इस पुल के बनकर तैयार होने की उम्मीद है। जब तक पुराना रास्ता बनकर तैयार नहीं हो जाता, तब तक इस पुल की मदद से यातायात बहाल रखा जाएगा।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021