श्रीनगर, राज्य ब्यूरो। गलूरा हंदवाड़ा में मंगलवार को मारे गए लश्कर के दोनों आतंकियों के जनाजे में बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए। इस दौरान जमकर राष्ट्रविरोधी और जिहादी नारे भी लगे। गौरतलब है कि गलूरा में सुरक्षाबलों ने लश्कर के दो आतंकियों फुरकान और लियाकत अहमद लोन को मार गिराया था।

शरतपोरा लंगेट का रहने वाला 18 वर्षीय फुरकान करीब चार माह पहले ही आतंकी बना था, लेकिन वह बीते एक साल से सुरक्षाबलों के लिए सिरदर्द बना था।

हारवन सोपोर का रहने वाला लियाकत एक रिसायकल्ड आतंकी था। उसने कुछ वर्ष पहले आतंकवाद को तौबा कर सरेंडर किया था, लेकिन कुछ ही दिनों बाद वह फिर आतंकियो के लिए ओवरग्राउंड वर्कर काम करने लगा था और करीब दो माह पहले वह फिर आतंकी बन गया था।

दोपहर बाद लियाकत को हारवन सोपोर स्थित उसके पैतृक कब्रिस्तान में और फुरकान को शरतपोरा में उसके पैतृक कब्रिस्तान मे दफनाया गया। लोगों के मुताबिक,दोनों आतंकियों के जनाजे में सैकड़ों लोग शामिल हुए।

दोनों ही जगह आतंकियों के जनाजे में शामिल कई लोगों ने इस्लामिक और पाकिस्तानी ध्वज भी लहराए। इस दौरान जिहादी नारे भी खूब लगे। दोनों ही जगह आतंकियों का जनाजा होने के बाद शरारती तत्वों ने राष्ट्रविरोधी नारेबाजी करते हुए सुरक्षाबलों पर पथराव भी किया। हालात पर काबू पाने के लिए सुरक्षाबलों को भी बल प्रयोग करना पड़ा। 

Posted By: Preeti jha