जम्मू, जेएनएन। कश्मीर पुलिस ने बारामूला में सरपंच के घर पर ग्रेनेड से हमला करने के मामले में संलिप्त लश्कर-ए-तैयबा के चार ओवरग्राउंड वर्कर को गिरफ्तार किया है। इन सभी के खिलाफ करीरी पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज कर लिया गया है।

पुलिस के प्रवक्ता ने बताया कि गत 22 अगस्त की रात को नौ बजे करीरी पुलिस स्टेशन में किसी ने फोन कर बताया कि शरकवारा करीरी गांव में धमाके की आवाज सुनी गई है। इसके उपरांत बारामूला पुलिस ने सेना की 52 राष्ट्रीय राइफल और सीआरपीएफ की 176वीं बटालियन के साथ उक्त गांव की ओर कूच किया। इस दौरान जांच में पाया गया कि स्थानीय सरपंच नरेन्द्र कौर पत्नी दलजीत सिंह निवासी करीरी के घर पर ग्रेनेड से हमला किया गया है।

इस ग्रेनेड हमले में सरपंच के घर खड़ी की गई मारूति कार के शीशे भी चटख गए और घर को भी आंशिक रूप से नुकसान पहुंचा था। पुलिस ने इस संबंध में मामला दर्ज कर मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है। पुलिस ने जब सीसीटीवी फुटेज के आधार पर जांच प्रक्रिया को आगे बढ़ाया तो पाया कि मोहम्मद सलीम खान पुत्र गुलाम हसन खान निवासी न्यू कॉलोनी शरकवारा और सज्जाद अहमद मीर पुत्र स्वर्गीय मोहम्मद मीर निवासी मीर मोहल्ला सालूसा के रूप में हुई है। इन दोनों को गिरफ्तार करने के उपरांत इनसे कड़ी पूछताछ की गई। 

इन दोनों ने बताया कि वे आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के लिए ओवरग्राउंड वर्कर के रूप में काम कर रहे थे। उनका सीधा संपर्क टीआरएफ के अली भाई से था। चूंकि इन दोनों को नशे की लत भी थी और इन्होंने माना कि वे लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी हिला शेख और विदेशी आतंकी उस्मान के दिशा निर्देश पर काम कर रहे थे। उनके हुकम पर ही श्रीनगर के बटमालू से ग्रेनेड हासिल किए थे। इसके उपरांत कार्रवाई करते हुए दोनों ओवरग्राउंड वर्कर की निशानदेही पर बिलाल अहमद शेख पुत्र मोहम्मद मकबूल शेख निवासी सालूसा और नसीर अहमद डार पुत्र अब्दुल माजिद डार को गिरफ्तार कर लिया है। इनके कब्जे से दो हथगोले व 100 ग्राम चरस भी बरामद हुई है।

Edited By: Vikas Abrol