जम्मू, राज्य ब्यूरो: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और सेवा भारती जम्मू कश्मीर ने शेष देश की तर्ज पर जम्मू कश्मीर में भी कोविड महामारी की तीसरी लहर की आशंका के बीच इससे बचाव, रोकथाम और लोगों को जागरुक करने के लिए स्वयंसेवकों को आरोग्य मित्र के तौर पर प्रशिक्षित करना आरंभ कर दिया है।

केशव भवन में इस प्रशिक्षण अभियान का शुभारंभ प्रांत के सह संघचालक डॉ गौतम मैंगी ने किया। इस आरोग्य मित्र प्रशिक्षण योजना अभियान में विभिन्न रोगों के विशेषज्ञ चिकित्सक भी अपने अनुभव के आधार पर स्वयंसेवकों को बतौर आरोग्य मित्र प्रशिक्षत कर रहे हैं। इस योजना के अंतर्गत कोविड-19 से बचाव के लिए प्रशिक्षण को सुरक्षा, सतर्कता, नियंत्रण एवं प्रबंधन पर केंद्रित किया गया है।

डा गौतम मैंगी ने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने संकट की हर घड़ी में सेवा कार्यों को प्राथमिकता दी है। कोविड-19 की पहली और दूसरी लहर इसका प्रमाण है। इससे पूर्व भी कश्मीर के श्रीनगर में बाढ़, उड़ी में आए भूकंप और लद्धाख में बाढ़ के दौरान संघ के कार्यकर्ताओं प्रभावित वर्ग के लिए राहत एवं बचाव कार्य किए थे। लिहाजा संघ और सेवा भारती ने अब आगामी खतरे को भांपते हुए कोविड-19 की तीसरी लहर की आशंका के मद्देनजर इससे निपटने की तैयारी के लिए आरोग्य मित्र प्रशिक्षण योजना की शुरुआत कर दी है।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का यह प्रशिक्षण अभियान जम्मू कश्मीर प्रांत की संगठनात्मक दृष्टि से लद्धाख में भी चलेगा। इस दौरान संघ के स्वयंसेवकों को जम्मू कश्मीर के हर जिले और खंड में कोविड महामारी की तीसरी लहर से निपटने के लिए प्रशिक्षित किया जाएगा।

प्रशिक्षण के दौरान हुए चार सत्रों में आयुर्वेद, एलोपैथी और योग के जरिए कोविड से बचाव और इसकी रोकथाम के तरीके विशेषज्ञों ने बताएं। इनमें डॉ दीपक जी, डॉ अनिल मन्हास जी, शशिकांत जी और योगाचार्य महावीर जी आदि शामिल थे। प्रशिक्षण अभियान के समापन सत्र में सेवा भारती के उत्तर क्षेत्रीय संगठन मंत्री जयदेव ने कहा कि अभियान के तहत हम दो-दो कार्यकर्ता हर गांव में तैयार करेंगे, यह कार्यकर्ता आगे अन्य लोगों को कोविड-19 की संभावित तीसरी लहर से पैदा होने वाले संकट के समय आपात जैसी स्थिति से निपटने के लिए प्रशिक्षित करेंगे। 

Edited By: Rahul Sharma