मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जम्मू, जेएनएन। जम्मू संभाग के पहाड़ी इलाकों में हो रही बारिश के कारण तवी नदी में अचानक आए उफान में चार लोग फंस गए हैं। ये लोग भगवती नगर पुल के बेराज में मछली पकड़ रहे थे। तवी में अचानक आए उफान ने इन लोगों को सुरक्षित किनारे तक पहुंचने का मौका भी नहीं दिया। बाढ़ में फंसे इन लोगों को बचाने के लिए पहले तो प्रशासन ने स्टेट डिजास्टर रेस्क्यू फोर्स के जवानों की मदद ली परंतु पानी का बहाव तेज होने के कारण वे उन तक नहीं पहुंच पाए। जिसके बाद एयरफोर्स से संपर्क किया गया गया।

एयरफोर्स के जवान एमआई-17 हेलीकाप्टर लेकर घटना स्थल पर पहुंच गए। वायु सेना के जवान ने सबसे पहले निर्माणाधीन बेराज की ओढ़ में बैठे दो युवाओं को निकालने के लिए सीढ़ी फैंकी। जैसे ही दोनों युवा सीढ़ी पर खड़े हुए और हेलीकाप्टर वहां से निकलने लगा, सीढ़ी टूट गई और दोनों युवा बाढ़ के पानी में बह गए। यह तो गनिमत थी कि दोनों युवा तैरना जानते थे। बड़ी मुश्किल से दोनों युवकों ने किनारे पर पहुंचकर अपनी जान बचाई। अभियान के विफल होने पर युवा सेना का हेलीकाप्टर टेक्निकल एयरपोर्ट पर लौट गए।

करीब पंद्रह मिनट बाद वायु सेना के जवान दोबारा मौके पर पहुंचे। इस बार सेना ने सीढ़ी नहीं बल्कि रस्सी की मदद से अपने जवान को उस बेराज पर उतारा जहां दोनों मजदूर फंसे हुए थे। जवान ने बेराज पर उतरकर पहले तो दोनों मजदूरों को सेफ्टी बेल्ट पहनाई और फिर रस्सी से उन्हें बांधकर हेलीकाप्टर से टेक्नीकल एयरपोर्ट तक पहुंचाया गया। वायु सेना का जवान दोनों मजदूरों के सुरक्षित पहुंचने तक स्वयं बेराज पर ही खड़ा रहा। दाेनों मजदूरों को सुरक्षित पहुंचाने के बाद वायु सेना का हेलीकाप्टर अपने जवान को लेने के लिए वापिस लौटा।

करीब तीन घंटे तक चले इस रेस्क्यू आपरेशन को देखने के लिए चौथे पुल व पुराने तवी पुल पर लोगों का जमावड़ा लगा हुआ था। यह पहला मौका नहीं है जब तवी नदी में आई बाढ़ में लोग फंसे हों। लगभग बरसात के हर मौसम में तवी में अचानक आई बाढ़ में लोग फंस जाते हैं। स्टेट डिजास्टर रेस्क्यू फोर्स या फिर वायु सेना की मदद से ही लोगों को सुरक्षित बाहर निकाला जाता है।

 

Posted By: Rahul Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप