नई दिल्ली, जेएनएन। 18वें एशियन गेम्स में हॉकी के सेमीफाइनल मुकाबले में भारतीय पुरुष हॉकी टीम को रोमांचक मुकाबले में मलेशिया ने 7-6 से हरा दिया। इस हार के बाद डिफेंडिंग चैंपियन भारत का फाइनल में पहुंचने का सपना टूट गया । इस मैच में खेल खत्म होने तक दोनों टीमें 2-2 की बराबरी पर थी। इसके बाद पेनल्टी शूट आउट में भी दोनों टीमें 2-2 की बराबरी पर रही। एक बार फिर से सडेन डेथ के जरिए मैच का फैसला हुआ जिसमें मलेशिया ने भारत को 7-6 से हरा दिया। 

खेल की शुरुआत भारतीय टीम ने बेहद शानदार ढंग के की और पहले ही मिनट में भारत को पेनल्टी कॉर्नर मिल गया। हालांकि हरमनप्रीत इसका फायदा नहीं उठा पाए और भारत की तरफ से पहला गोल नहीं हो पाया। इसके कुछ ही देर के बाद भारत को एक और पेनल्टी कॉर्नर मिला लेकिन भारत इस बार भी पहला गोल करने में कामयाब नहीं हो पाया। भारत को पहले हाफ में तीसरा पेनल्टी कॉर्नर मिला लेकिन इस बार भी नतीजा भारत को पक्ष में नहीं रहा वहीं खेल के 13वें मिनट में मेलेशिया को भी पेनल्टी कॉर्नर मिला लेकिन उसकी तरफ से भी गोल नहीं हो सका। पहले क्वार्टर में खेल खत्म होने तक दोनों ही टीमों का स्कोर 0-0 रहा। 

दूसरे क्वार्टर में मलेशिया ने खेल की शुरुआत में ही हमला बोल दिया लेकिन भारतीय गोलकीपर श्रीजेश ने अच्छा खेल दिखाते हुए खेल के 20वें मिनट में शानदार सेव किया। इसके ठीक बार मलेशिया को एक और पेनल्टी कॉर्नर मिला लेकिन ये टीम गोल नहीं कर पाई। खेल के 21वें मिनट में भारत ने अटैक करते हुए पेनल्टी कॉर्नर हासिल किया लेकिन गोल करने में नाकाम रही। भारत को पांच पेनल्टी कॉर्नर मिले लेकिन एक भी गोल में तब्दील नहीं हो पाया। मलेशिया के गोलकीपर कुमार सुब्रमण्यम की अच्छी सेविंग देखने को मिली। पहले हाफ के खेल खत्म होने तक दोनों ही टीमों का स्कोर एक बार फिर से 0-0 रहा। 

तीसरे क्वार्टर में भारत व मलेशिया की तरफ से एक-एक गोल किए गए और खेल बराबरी पर आ गया। तीसरे क्वार्टर के आखिरी में भारत को पेनल्टी कॉर्नर मिला और भारतीय टीम ने गोल कर स्कोर 2-1 कर लिया। तीसरे हाफ का खेल खत्म होने तक भारत ने 2-1 की बढ़त जारी रखी। आखिरी क्वार्टर के आखिरी वक्त में मलेशिया को पेनल्टी कॉर्नर मिला और इस टीम ने गोल करके स्कोर को 2-2 से बराबर कर दिया। फाइनल टाइम तक भारत और मलेशिया का स्कोर 2-2 की बराबरी पर रहा। 

Posted By: Sanjay Savern