भुवनेश्वर, जेएनएन। कप्तान और गोलकीपर क्विको कोर्टेस के पेनाल्टी स्ट्रोक पर किए गए शानदार बचाव की मदद से स्पेन ने फ्रांस के खिलाफ सोमवार को यहां हॉकी विश्व कप का पूल-ए का मैच 1-1 से ड्रॉ करवाया। इस मैच के ड्रॉ रहने से ये दोनों टीमें नॉकआउट में पहुंचने की दौड़ में बनी हुई हैं। दोनों के दो-दो मैचों में एक-एक अंक हैं।

विश्व रैंकिंग में आठवें नंबर पर काबिज स्पेन और टूर्नामेंट में सबसे निचली रैंकिंग पर काबिज 20वें नंबर की टीम फ्रांस के बीच काफी रोमांचक मुकाबला देखने को मिला। उम्मीद की जा रही थी कि यह मुकाबला स्पेन के लिए आसान होगा, लेकिन फ्रांसीसी टीम ने स्पेनिश टीम टीम को काफी कड़ी चुनौती दी। फ्रांस के टिमोथी क्लेमेंट ने छठे मिनट में ही मैदानी गोल करके स्पेन को सकते में डाल दिया। फ्रांस की टीम ने इस तरह 1-0 से आगे हो गई और उसने अपनी यह बढ़त तीसरे क्वार्टर तक बरकरार रखी।

स्पेन की टीम के लिए अल्वारो इग्लेसियास से 48वें मिनट में बराबरी का गोल किया, जिससे स्कोर 1-1 हो गया। फ्रांस के पास टूर्नामेंट का पहला बड़ा उलटफेर करने का सुनहरा मौका था, लेकिन स्पेन के कप्तान कोर्टेस अपनी टीम के बचाव में आगे आए। स्पेन के रक्षक के गोल के मुंहाने पर पर बाधा पहुंचाने के कारण फ्रांस को वीडियो रेफरल के जरिये पेनाल्टी स्ट्रोक मिला, लेकिन कोर्टेस ने ह्यूगो जेनेस्टेट का शॉट रोक दिया।

इसके बाद कोई भी टीम गोल नहीं कर सकी और मुकाबला बराबरी पर खत्म हो गया। स्पेन अपने पहले मैच में ओलंपिक चैंपियन अर्जेंटीना से 3-4 से हार गया था, जबकि फ्रांस को न्यूजीलैंड से 1-2 से हार ङोलनी पड़ी थी। स्पेन पूल के अपने अंतिम मैच में छह दिसंबर को न्यूजीलैंड से भिड़ेगा, जबकि फ्रांस का सामना अर्जेंटीना से होगा।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Pradeep Sehgal