नई दिल्ली, आन लाइन डेस्क। ऑस्ट्रेलिया महिला टीम ने भारत को पेनेल्टी स्ट्रोक के शूटआउट में 3-0 से हराकर सेमीफाइनल मुकाबला जीत लिया। फुल टाइम के बाद भारत और ऑस्ट्रेलिया दोनों टीमों का स्कोर 1-1 रहा था। भारत ने शानदार खेल का नमूना दिखाया लेकिन आखिर में फुल टाइम पूरा होने के बाद पेनेल्टी स्ट्रोक में ऑस्ट्रेलिया ने भारत को हरा दिया। गौरतलब है कि पेनेल्टी स्ट्रोक के पहले प्रयास में ऑस्ट्रेलिया की खिलाड़ी ब्रोजिया मलोन का स्ट्रोक सुनीता पूनिया ने बचा लिया लेकिन मैच की घड़ी रुक जाने की वजह से ऑस्ट्रेलिया की टीम को एक और मौका मिला और ऑस्ट्रेलिया की टीम ने दोबारा मिले मौके को भूना लिया। चलिए जानते हैं कि मैच में क्या-क्या हुआ--

पहले क्वार्टर का हाल-

भारत ने पहले क्वार्टर मे ऑस्ट्रेलिया ने जबरदस्त आक्रमक खेल का प्रदर्शन किया। ऑस्ट्रेलिया टीम ने शिरुआत में गेंद को रखने में कामयाब रहे। हालांकि भारत की ओर से कमजोर पास किया गया, जिसने ऑस्ट्रेलिया की खिलाड़ी को आक्रमक होने का मौका दिया। पहले क्वार्टर के समाप्त होने के आठ मिनट पहले ऑस्ट्रेलिया की खिलाड़ी को चेहरे पर गेंद लग गई, जिसके वजह से ऑस्ट्रेलिया को फ्री हिट मिला। पहले क्वार्टर के सातवें मिनट पर भारत को पेनेल्टी कॅार्नर मिला लेकिन भारत ने एक आसान मौका गंवा दिया। ऑस्ट्रेलिया ने पहला क्वार्टर समाप्त होने से पांच मिनट पहले पहला गोल कर दिया। ऑस्ट्रेलिया की रेबेका ग्रीनर ने पहला गोल किया।

पहले क्वार्टर के चार मिनट पहले ऑस्ट्रेलिया को पेनेल्ट मिला, लेकिन मोनिका ने शानदार ढंग से गोल बचा लिया। भारत को पहले क्वार्टर के ठीक पहले पेनेल्टी मिला लेकिन भारतीय टीम ने एक बार फिर मौका गंवा दिया। पहले क्वार्टर समाप्त होने का बाद ऑस्ट्रेलिया 1-0 से आगे

दूसरे क्वार्टर का हाल-

ऑस्ट्रेलिया ने दूसरे क्वार्टर की शुरुआत आक्रमक तरीके से की।  मैच में वंदना काटारिया को ज्यादा मौका नहीं मिल रहा था। दूसरे क्वार्टर के 9 मिनट पहले पेनेल्टी कॅार्नर मिला लेकिन ऑस्ट्रेलिया की गोलकीपर ने शानदार ढंग से बॅाल को गोलपोस्ट में जाने से बचा लिया। हाफ टाइम समाप्त होने के 5 मिनट पहले भारत को एक और मौका मिला था लेकिन बॅाल को ऑस्ट्रेलिया की गोलकीपर ने शानदार तरीके से गोलपोस्ट में जाने से बचा लिया।

हाफ टाइम के ठीक 4 मिनट पहले भारत को एक बार फिर पेनेल्टी कार्नर मिला लेकिन डी-एरिया में भारतीय कोई कमाल नहीं कर सकी और भारत ने गोल करने का एक और मौका गंवा दिया। बता दें कि दूसरे क्वार्टर में कई मिनटों तक आस्ट्रेलिया 10 प्लेयर्स के साथ ही खेली। हाफ टाइम की समाप्ति के बाद ऑस्ट्रेलिया 1-0 से आगे रहा।

तीसरे क्वार्टर का हाल-

तीसरे क्वार्टर की शुरुआत से ही भारतीय टीम स्कोर को बराबर करने की कोशिश में जुट गई। शर्मिला को क्वार्टर की शुरुआत में ही एक मौका मिला लेकन आस्ट्रेलिया की खिलाड़ी ने शानदार तरीके से डिफेंस कर लिया। तीसरे क्वार्टर में भारतीय टीम ने बॅाल को अपने पास रखने में ज्यादा सफल रही। नवनीज कौर ने शानदार खेल का प्रदर्शन किया। 43वें मिनट में सोनिका को ग्रीन कार्ड मिला। वहीं, चौथे क्वार्टर के कुछ मिनट पहले ऑस्ट्रेलिया को एक और पेनेल्टी कॅार्नर मिला और लेकिन भारत ने शानदार तरीके से डिफेंस करते हुए पेनेल्टी कॅार्नर बचा लिया। हालांकि, तीसरे क्वार्टर समाप्ति के बाद भी ऑस्ट्रेलिया 1-0 से आगे रहा। भारत ने फुल टाइम से 11 मिनट पहले गोल कर दिया। वंदना काटारिया ने एक बार फिर दिखाया की वो इतनी बेहतर खिलाड़ी क्यों हैं। वंदना ने मुकाबले के 1-1 से बराबर कर दिया है। वंदना काटारिया ने भारत को पेनेल्टी कॅार्नर का मौका दिया लेकिन गोल करने से भारतीय टीम चूंक गई।ऑस्ट्रेलिया की खिलाड़ी केटलीन नॅाब्स को ग्रीन कार्ड दिखाया गया।

चौथे क्वार्टर का हाल-

चौथे क्वार्ट की शुरुआत में ही सविता पूनिया ने शानदार गोलकीपिंग का नमूना दिखाकर गोल होने से बचा लिया। भारतीय टीम ने एक गोल करने के बाद आक्रमक रुख अख्तियार किया लेकिन ऑस्टेलिया की टीम ने डिफेंस में जबरदस्त खेल दिखाया। मैच समाप्त होने के कुछ मिनट पहले ऑस्ट्रेलिया को पेनेल्टी कॅार्नर का मौका मिला और सविता पूनिया ने गोल बचा लिया। इसी के साथ फुल टाइम के बाद स्कोर 1-1 रहा।

दोनों टीमों को पांच बार पेनेल्टी स्ट्रोक का मौका मिला

नतीजा-- ऑस्ट्रेलिया 3-0 से विजयी रही

ऑस्टेलिया की ब्रोजिया मलोन को गोल करने से सविता ने बचा लिया। हालांकि क्लाॅक ना बजने से ऑस्ट्रेलिया को एक और मैका मिला और ब्रोजिया मलोन ने गोल कर दिया। भारतीय खिलाड़ी ने तीनों पेनेल्टी स्ट्रोक मिस कर दिए वहीं, ऑस्ट्रेलिया टीम ने इस मौके पर भूना लिया और वोमेंस हॅाकी में भारत का सफर समाप्त हो गया।

Edited By: Piyush Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट