संवाद सहयोगी, टाहलीवाल : उद्योग मंत्री के गांव गोंदपुर जयचंद में वन विभाग की टीम पर माफिया ने जानलेवा हमला कर दिया। हमले में वन खंड अधिकारी समेत तीन कर्मचारी घायल हुए हैं। इनमें से एक क्षेत्रीय अस्पताल ऊना में भर्ती है। माफिया के दुस्साहस का इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि उन्होंने रेंज अधिकारी और चालक का मोबाइल फोन तक छीन लिया। वहीं, पत्थरों से गाड़ियों के शीशे भी तोड़ दिए। हालांकि पुलिस भी वन विभाग की टीम के साथ थी, लेकिन हमले के दौरान वहां से भाग गई।

विभाग की टीम सूचना पर वन काटुओं पर कार्रवाई करने हरोली हलके के गांव गोंदपुर जयचंद में गई थी। यहां पर लकड़ी से भरकर ट्रक अवैध रूप से ले जाया जा रहा है। टीम ने लकड़ी से लदे ट्रक (नंबर एचपी 72-2577) के बारे में पूछताछ की तो वहां माफिया के गुंडों ने कर्मचारियों पर पथराव कर दिया। इतना ही नहीं कर्मचारियों से मारपीट भी की और सरकारी गाड़ी के शीशे आदि भी तोड़ डाले। वहीं, पुलिस जवानों को भी अपनी जान बचाने के लिए भागना पड़ा। मारपीट में डिप्टी रेंजर पवन कुमार बुरी तरह से घायल हुए हैं। रेंजर राजेश कुमार और फॉरेस्ट गार्ड को भी चोटें पहुंची हैं।

हमलावरों में महिलाओं के साथ बच्चे भी शामिल

घायल डिप्टी रेंजर पवन कुमार ने बताया कि उन्हें हरोली क्षेत्र के गांव गोंदपुर जयचंद के बेलियां में कटान की सूचना मिली थी। वह टीम सहित मौके पर पहुंचे। जब उन्होंने लकड़ी काटने वालों से पूछताछ की तो उन्होंने पत्थरों से हमला कर दिया। वहीं, वन परिक्षेत्र अधिकारी राजेश कुमार ने बताया कि रात को मौके पर जांच की जा रही थी कि वन माफिया ने तेजधार हथियारों के साथ जानलेवा हमला कर दिया। हमले में करीब 100 लोग शामिल थे, जिसमें पुरुषों के साथ महिलाएं और बच्चे भी थे।

चालक को गिरफ्तार कर पूछताछ जारी

'पुलिस ने ट्रक को जब्त कर चालक मुस्ताक ¨सह को गिरफ्तार कर लिया है। उससे पूछताछ की जा रही है। आरोपियों के खिलाफ आइपीसी की धारा 147, 148, 149, 353, 332, 384, 379, भारतीय वन अधिनियम की धारा 41, 42 तथा 3 पीडीपी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है।'

अमित शर्मा, डीएसपी हरोली।

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट