जागरण संवाददाता, सोलन : नर्सिग कॉलेज में हुई छात्रा की मौत मामले में छात्रा के परिजन मंगलवार को डीसी सोलन और एसपी से मिले। परिजनों ने डीसी को सारे घटनाक्रम की जानकारी दी और उसके बाद एसपी सोलन से मिले। परिजनों ने कहा कि बेटी की कॉलेज में मौत के बाद से कॉलेज प्रबंधन उनसे मुंह छिपाता फिर रहा है और इस मामले में अब तक किसी भी स्टाफ को जिम्मेदार नहीं ठहराया है। वहीं, पुलिस ने भी इस मामले की एफआइआर उन्हें नहीं दी है। हालांकि पुलिस ने कहा कि फॉरेंसिक और पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार है। उसके बाद ही इस मामले की सही जांच शुरू हो पाएगी।

मुरारी लाल नर्सिग कॉलेज सोलन में छात्रा तनुजा शर्मा का 30 जुलाई को कॉलेज परिसर में शव मिला था। कॉलेज हॉस्टल में रहने वाली छात्रा का शव मिलने के बाद से कॉलेज प्रबंधन ने परिजनों से कोई संपर्क नहीं किया, जबकि उसकी सहेलियों ने जानकारी परिजनों को दी। परिजनों ने शक जाहिर किया है कि कॉलेज प्रबंधक मौत के बाद से ही मामले को दबाने में लगा है, जिससे ऐसा प्रतीत होता है कि उनकी बेटी साजिश का शिकार हुई है। इस घटना के बाद से न तो हॉस्टल की वार्डन पर एक्शन लिया गया और न ही क्लास कोर्डिनेटर से कोई जवाब मिला।

तनुजा की माता वीना शर्मा और पिता महेंद्र शर्मा ने डीसी विनोद कुमार से कहा कि जिला में इस तरह के घटनाक्रम विद्यार्थियों की सुरक्षा पर बड़ा सवाल है। कॉलेज में सीसीटीवी कैमरा नहीं होना भी बड़ा सवाल है। इसके बाद परिजन एसपी से मिले। एसपी सोलन मधुसूदन शर्मा ने कार्यालय में मामले के आइओ एसएचओ रविंद्र कुमार व डीएसपी को जल्द परिणाम लाने के निर्देश दिए। साथ ही अब तक के जांच के इनपुट भी परिजनों से साझा किए। पुलिस ने बताया कि वह इस मामले की जांच कर रहे हैं और जल्द ही किसी परिणाम तक पहुंचेंगे। वीना शर्मा ने कहा कि उनकी बेटी आत्महत्या नहीं कर सकती। जब उसका शव मिला तो शरीर पर कोई चोट और खून नहीं था। कोई पांच मंजिल से कूदकर जान दे दे और खून की बूंद तक न निकले ऐसा संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि बेटी की किसी ने हत्या कर दी है।

मामले के जांच अधिकारी एसएचओ सोलन रविंद्र कुमार ने कहा कि इस मामले में अभी फॉरेंसिक रिपोर्ट उन्हें नहीं मिली है। फिलहाल मामले की जांच सीआरपीसी की धारा 174 के तहत जारी है। रिपोर्ट आने के बाद ही मामले में अगली धाराएं शामिल हो सकती हैं। फिलहाल पुलिस के हर पहलू की गंभीरता से जांच कर रही है।

Posted By: Jagran