नाहन, जेएनएन। डॉ. वाईएस परमार मेडिकल कॉलेज नाहन में आठ जून की रात्रि को नवजात के बदले जाने के मामले में मंगलवार को पुलिस ने बच्‍चे का डीएनए करवाने के लिए ब्लड सैंपल लिए। नाहन पुलिस ने नवजात, श्रीरेणुकाजी विधानसभा क्षेत्र के ददाहू के चूली निवासी कुशल सिंह व उसकी पत्नी संगीता तीनों के ब्लड सैंपल लिए। अब इन ब्लड सैंपल को पुलिस जुंगा स्थित लैब भेजेगी। पुलिस लैब में ब्लड सैंपल की डीएनए जांच के बाद ही सारे मामले की सच्चाई सामने आएगी कि संगीता को बेटा हुआ था की बेटी।

 

दो से तीन सप्ताह में डीएनए जांच की रिपोर्ट आने की उम्मीद है, जबकि मेडिकल कॉलेज प्रशासन ने तीसरे दिन भी दंपती की शिकायत के बाद भी कोई बयान दर्ज नहीं किए। उल्टे मेडिकल कॉलेज स्टाफ की ओर से दंपती को प्रताडि़त किया जा रहा है। नवजात के दादा बलवंत सिंह ने बताया सोमवार देर शाम को बच्ची कुछ बीमार हुई। जिस पर वह स्टाफ नर्स के पास गए। मगर स्टाफ नर्स बच्ची को देखने नहीं आई। बार-बार आग्रह के बाद भी स्टाफ नर्स द्वारा उन्हें यह कहा जा रहा था कि क्यों पुलिस में शिकायत की।

 

आठ जून की रात्रि को मेडिकल कॉलेज में तीन महिलाओं के प्रसव हुए थे। दो को बेटी व एक को बेटा हुआ था। बच्चे बदलने का कोई भी मामला नहीं है। मामले में थोड़ा मिसकम्युनिकेशन हुआ था। जिसके चलते यह समस्या पैदा हुई। बुधवार को एचओडी की रिपोर्ट के बाद आगामी कार्रवाई की जाएगी। -डॉ. डीडी शर्मा, अधीक्षक, मेडिकल कॉलेज नाहन

 

नाहन मेडिकल कॉलेज में नवजात के बदले जाने के मामले में मंगलवार को पुलिस ने नवजात, उसके पिता कुशल सिंह व माता संगीता के ब्लड सैंपल लिए। दो से तीन सप्ताह के भीतर रिपोर्ट आने के बाद सारी स्थिति साफ  हो जाएगी। -मानवेंद्र ठाकुर, प्रभारी, पुलिस थाना नाहन।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Rajesh Sharma