संवाद सूत्र, नेरवा : प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के अंतर्गत निर्माणाधीन चिल्ला-चपांडली सड़क की प्रस्तावित पासिग को लेकर कुछ ग्रामीणों ने सवाल उठाए हैं। लोगों ने सड़क का निर्माण निर्धारित मापदंडों के तहत न होने से पहले इसकी पासिग न करवाने को लेकर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को पत्र लिखा है। युवक मंडल प्रधान चिल्ला मनोज कुमार नेगी, युवक मंडल सचिव सुरेंद्र शर्मा, सदस्य गीता, सहीराम शर्मा, श्यामलाल शर्मा, बंसीलाल, बिशन सिंह, होमिद्र सिह, सुखराम शर्मा, कुलदीप शर्मा, प्रमोद, जितेंद्र, विक्की और नारायण दत्त शर्मा ने मांग उठाई है कि उक्त सड़क के निर्माण कार्य में बरती गई अनियमितताओं की किसी निष्पक्ष एजेंसी से उच्च स्तरीय जांच करवाई जाए।

मनोज कुमार ने बताया कि नौ किलोमीटर लंबी इस सड़क का कार्य वर्ष 2016 में शुरू हुआ था और इसे 2018 में पूरा करना था, लेकिन निर्धारित अवधि के बाद तीन साल गुजर जाने के बावजूद यह कार्य पूरा नहीं हो पाया है। विभाग इस अधूरी बनी सड़क की पासिग करवा कर अपना पल्ला झाड़ने के प्रयास में है। इसके अतिरिक्त जो सड़क बनकर तैयार हो चुकी है उसमें अभी तक पर्याप्त कलवर्ट, डंगे और दीवारों का निर्माण भी नहीं किया गया है।

सड़क निर्धारित मापदंडों के आधार पर ही बनाई गई है। जीरो प्वाइंट के टेंडर लग चुके हैं। इसके साथ ही 25 मीटर क्रैश बैरियर भी लग रहे हैं। जब भी किसी सड़क का सर्वे होता है तो इसके निशान कई जगह ढांक पर लगाए जाते हैं, जिस कारण कई बार सड़क की लंबाई थोड़ी बहुत कम हो जाती है।

- जगदीश चंद कानूनगो, अधिशाषी अभियंता लोक निर्माण मंडल चौपाल।

Edited By: Jagran