राज्य ब्यूरो, शिमला : राष्ट्रीय हरित अधिकरण यानि एनजीटी के आदेश के तहत घग्गर तथा इसकी सहायक नदियों को प्रदूषित होने से बचाने के लिए विशेष कार्यबलों का गठन किया गया है। निर्धारित मानकों से अधिक प्रदूषित कचरा डालने वाले लोगों को चिह्नित करने के लिए प्रदेश तथा जिलास्तर पर विशेष टीमों का गठन किया है। राज्यस्तरीय विशेष कार्यबल में मुख्य सचिव, अतिरिक्त मुख्य सचिव पर्यावरण, विज्ञान तथा तकनीकी, अतिरिक्त मुख्य सचिव शहरी विकास को शामिल किया गया है, जबकि सदस्य सचिव प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को इसका सदस्य सचिव बनाया गया है।

सोलन तथा सिरमौर जिला स्तरीय विशेष कार्यबल में संबंधित उपायुक्त, संबंधित जिलों के प्रतिनिधि तथा जिला सत्र न्यायाधीश, संबंधित पुलिस अधीक्षक, संबंधित जिला स्थानीय निकायों के कार्यकारी अधिकारी शामिल किए गए हैं और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी जिला स्तरीय विशेष कार्यबल के सदस्य सचिव होंगे। जिलास्तर का विशेष कार्यबल उन लोगों और उद्योगों का पता लगाएंगे जो औद्योगिक अवशिष्ट को घग्गर तथा इसकी सहायक नदियों में डालकर इसके जल को प्रदूषित कर रहे हैं। इसके लिए मासिक रिपोर्ट जिला स्तरीय कार्यबल राज्यस्तरीय विशेष कार्यबल को सौंपेगा। राज्यस्तरीय विशेष कार्यबल अपनी त्रैमासिक रिपोर्ट केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को सौंपेगा। ऐसी सभी रिपोर्ट पर्यावरण, विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी विभाग की वेबसाइट के अतिरिक्त राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की वेबसाइट पर भी अपलोड की जाएंगी।

Posted By: Jagran