जागरण संवाददाता, शिमला : हिमाचल प्रदेश एसएफआइ विश्वविद्यालय इकाई ने वीरवार को विवि परिसर में प्रदेश सरकार द्वारा लिए गए प्रत्यक्ष छात्र संघ चुनाव पर लगे प्रतिबंध को जारी रखने के निर्णय के विरोध में प्रदर्शन किया। कैंपस सचिव अनिल नेगी ने धरने को संबोधित करते हुए कहा कि 2014 से प्रतिबंधित प्रत्यक्ष छात्र संघ चुनाव की बहाली के लिए एसएफआइ लगातार संघर्ष कर रही है और प्रदेश और विवि प्रशासन से माग कर रही है। चुनाव पर लगे प्रतिबंध को हटाकर छात्रों को उनका लोकत्रात्रिक मंच वापस दिया जाए। बीते साल विधानसभा चुनाव में प्रदेश की भाजपा सरकार ने प्रदेश के छात्र समुदाय से घोषणापत्र में यह वादा किया था कि अगर छात्र भाजपा को वोट दे कर सत्ता में आने का मौका देते हैं तो रूसा हटाने के साथ-साथ एससीए चुनाव भी बहाल करेंगे। भाजपा ने छात्रों को गुमराह कर वोट लिए और सत्ता में भी आ गई लेकिन जिस विश्वास के साथ छात्रों ने भाजपा को वोट देकर सत्ता पर बिठाया आज प्रदेश की भाजपा सरकार द्वारा लिए गए प्रत्यक्ष छात्र संघ चुनाव पर लगे प्रतिबंध को न हटाने के निर्णय से छात्रों के विश्वास को बहुत बड़ा धक्का लगा है।

धरना प्रदर्शन के माध्यम से प्रदेश की भाजपा सरकार को चेतावनी दी है कि आने वाले समय में अपने आदोलन को और तीखा करेगी और भाजपा सरकार के चेहरे को छात्रों व जनता के बीच बेनक़ाब करेगी।

Posted By: Jagran