संवाद सूत्र, भावानगर : जिला किन्नौर में मंगलवार देर रात करीब दो बजे मीरु पंचायत क्षेत्र में बादल फटने से चोलिग में कई सेब के बगीचों सहित लोगों के खेतों को नुकसान पहुंचा है। इससे चोलिग के समीप रूनंग खड्ड में पानी के साथ मलबा आ गया। यही नहीं चोलिग से रूनंग खड्ड तक कई स्थानों में बाढ़ का पानी व मलबा सड़क पर आ गया। इस दौरान बाढ़ का मलबा राष्ट्रीय उच्च मार्ग-पांच पर पहुंचने से काफी नुकसान हुआ, इससे करीब 10 घंटे तक मार्ग अवरुद्ध रहा। मार्ग को राष्ट्रीय उच्च मार्ग व जेएसडब्ल्यू कंपनी की मशीनों द्वारा बहाल करने का कार्य किया जा रहा है। रात दो बजे से ही यहां वाहन चालक फंसने शुरू हो गए। बुधवार सुबह करीब 11 बजे सड़क को वाहन चलाने योग्य खोला गया।

बारिश के कारण चोलिग-मीरु सहित पुराना हिदुस्तान तिब्बत सड़क मार्ग को भी काफी नुकसान पहुंचा है। इस दौरान राष्ट्रीय उच्च मार्ग-पांच पर भी बाढ़ का मलबा आने से सड़क मार्ग बुधवार सुबह करीब 11 बजे तक बाधित रहा।

बाढ़ का मलबा सेना के बैरकों में भी घुस गया। चोलिग स्थित आर्मी हेलीपेड में भी बाढ़ का काफी मलबा घुस आया है। ग्रामीणों के अनुसार मंगलवार देर रात दो बजे के करीब बारिश के बीच तीन-चार नालों में एक साथ बाढ़ आने से कई ग्रामीणों के खेत-खलिहानों सहित सेब के बगीचों में बाढ़ का मलबा घुसने से काफी नुकसान हुआ है। मीरु व आसपास के क्षेत्रों के कई लोगों के सेब के बगीचों को लाखों रुपये का नुकसान पहुंचा है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021