राज्य ब्यूरो, शिमला : हिमाचल में पहली बार हो रही व‌र्ल्ड रेसलिंग एंटरटेनमेंट (डब्ल्यूडब्ल्यूई) चैंपियनशिप के लिए सरकार पैसा नहीं जुटा पाई है। इस कारण चैंपियनशिप के आयोजन की तारीखें बदल दी गई हैं। सरकार को चैंपियनशिप के लिए तीन करोड़ रुपये जुटाना मुश्किल हो रहा है। ऐसे में चैंपियनशिप के लिए सरकारी खजाने से पैसे जारी करने पर सरकार की कार्यप्रणाली सवालों के घेरे में आ सकती है कि कंगाली में करोड़ों रुपये लुटाए गए।

सरकार चैंपियनशिप को 29 जून को मंडी में करवा रही थी। इसके लिए जोर-शोर से तैयारियां चल रही थीं। अब यह चैंपियनशिप चार जुलाई को मंडी के पड्डल में और सात जुलाई को सोलन के ठोडो मैदान में होगी। इसमें अंतरराष्ट्रीय स्तर के डब्ल्यूडब्ल्यूई के चैंपियन दमखम दिखाएंगे। मंडी व सोलन में 15 से 20 हजार दर्शकों के बैठने की व्यवस्था की जा रही है। सबसे आगे बैठना है तो देने होंगे दस हजार रुपये

चैंपियनशिप के लिए पैसे जुटाने को लेकर सरकार ने मुकाबलों के दौरान सबसे आगे पहली पंक्ति में बैठने वालों से दस हजार रुपये प्रति व्यक्ति सीट निर्धारित की है। इसके बाद 7,500 रुपये, 5,500 रुपये और सबसे कम टिकट 500 रुपये की होगी। दोनों ही जिलों में इसी आधार पर टिकटों की राशि निर्धारित की गई है। चैंपियनशिप के लिए विभागों के प्रभारियों और अधिकारियों को पैसे जुटाने के लिए लक्ष्य दिया गया है। इसमें से बहुत से विभाग अभी पैसे जुटा नहीं सके हैं और उन्होंने कुछ समय की मांग की थी। इस आधार पर चैंपियनशिप की तारीख को बदला गया है। मुख्य सचिव ने लिया जायजा

प्रदेश के मुख्य सचिव विनीत चौधरी ने अपने अधिकारियों सहित मंडी व सोलन जिलों के उपायुक्तों के साथ वीडियो कांफ्रेंस से चैंपियनशिप की तैयारियों का जायजा लिया। उन्होंने इस संबंध में आवश्यक निर्देश जारी किए। उपायुक्तों ने बताया कि 15 से 20 हजार दर्शकों के बैठने की व्यवस्था की जा रही है। सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए जा रहे हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस