राज्य ब्यूरो, शिमला : प्रदेश मंत्रिमंडल ने किन दो मंत्रियों की छुट्टी होगी और कौन से चार नए चेहरों को जगह मिलेगी, इसका फैसला दिल्ली में होगा। फिलहाल प्रदेश में मंत्रियों के दो पद रिक्त हैं। माना जा रहा है कि दो मौजूदा मंत्रियों से कुर्सी छीनी जा सकती है। कुछ दिनों से सुर्खियों में रहे दो मंत्रियों के विभाग बदले जा सकते हैं या उनकी विदाई भी हो सकती है। मंत्रिमंडल विस्तार के मामले में भाजपा आलाकमान से चर्चा करने के लिए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर मंगलवार को दो दिवसीय दिल्ली दौरे पर जा रहे हैं। मंत्रियों के रिपोर्ट कार्ड पर आला नेतृत्व से मंत्रणा होगी। मंत्रिमंडल विस्तार में हमीरपुर जिला को जगह मिलने की संभावना है।

राजनीतिक गलियारों में चर्चा है कि वरिष्ठ विधायक राकेश पठानिया, सुखराम चौधरी और नरेंद्र ठाकुर को कैबिनेट में जगह मिल सकती है। सियासी समीकरणों के हिसाब से विधानसभा अध्यक्ष डॉ. राजीव बिदल की भी मंत्रिमंडल में एंट्री हो सकती है। मंडी जिला से मंत्री पद कम हुआ है, तो नाचन के विधायक विनोद कुमार भी दावेदारों की फेहरिस्त में शामिल हो सकते हैं। दिल्ली से मंत्रिमंडल विस्तार की हरी झंडी मिलने के बाद इस माह के अंत में शपथ ग्रहण समारोह हो सकता है। किशन कपूर के सांसद चुने जाने के बाद मंत्रिमंडल से पद खाली हुआ था। वहीं मंडी से अनिल शर्मा ने मंत्री पद छोड़ दिया था। भ्रष्टाचार के आरोप पड़ सकते हैं भारी

मौजूदा मंत्रिमंडल के दो मंत्रियों पर प्रत्यक्ष व परोक्ष तौर पर भ्रष्टाचार को संरक्षण देने के आरोप लगे हैं। आयुर्वेद घोटाला व स्वास्थ्य विभाग में दवाओं की खरीद में पक्षपातपूर्ण रवैया अपनाने के आरोप लगे थे। चंडीगढ़ प्रकरण से भी सरकार की जीरो टालरेंस नीति पर प्रश्नचिह्न लग रहे हैं। इसके अलावा कांगड़ा जिला के एक मंत्री का प्रदर्शन भी सरकार के लिए चिता का विषय रहा है। ऐसे में यदि आलाकमान ने हरी झंडी दी तो दो मंत्रियों की कुर्सी छिन सकती है।

हमीरपुर को जगह मिलना तय

माना जा रहा है कि हमीरपुर जिला को मंत्रिमंडल में प्रतिनिधित्व मिलेगा। जिले से नरेंद्र ठाकुर और कमलेश कुमारी भाजपा के विधायक हैं। नरेंद्र दूसरी बार जीतकर विधानसभा पहुंचे हैं। हमीरपुर जिला में कांग्रेस की पकड़ कमजोर करने के लिए नरेंद्र का नाम तर्कसंगत माना जा रहा है। बिदल मंत्री बने तो मिलेगा नया विधानसभा अध्यक्ष

यदि विधानसभा अध्यक्ष डॉ. राजीव बिदल को मंत्रिमंडल में शामिल किया जाता है तो मौजूदा मंत्रियों में से किसी एक को अध्यक्ष की कुर्सी पर बिठाया जा सकता है। यदि बिदल की मंत्रिमंडल में एंट्री होती है तो पांवटा साहिब से भाजपा विधायक सुखराम चौधरी को जगह मिलना मुश्किल होगा। बदल सकते हैं कई मंत्रियों के विभाग

सरकार में मंत्रियों के विभाग बदले जाना निश्चित है। मंत्रियों का प्रदर्शन चार्ट पीएमओ में मौजूद है। सरकार के मंत्रियों का आकलन दिल्ली में हो रहा है। संघ परिवार भी कई मंत्रियों की कारगुजारियों से खुश नहीं है। ऐसी परिस्थितियों में मंत्रियों के विभाग बदले जा सकते हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस