जागरण टीम, रिकांगपिओ/भावानगर : जिला किन्नौर के प्रवेश द्वार चौरा के समीप मंगलवार देर रात से अवरुद्ध हुआ राष्ट्रीय राजमार्ग शुक्रवार को करीब 76 घंटे बाद बहाल हुआ। मार्ग के बहाल होने से पर्यटकों, बागवानों व अन्य लोगों ने राहत की सांस ली है। एनएच के तीन दिन तक अवरुद्ध रहने से सड़क मार्ग के दोनों तरफ सैकड़ों वाहन फंसे हुए थे।

प्रशासन व ग्रेफ द्वारा रोजाना शाम को मार्ग बहाल करने का आश्वासन दिया जा रहा था। एनएच प्राधिकरण द्वारा भी मार्ग को बहाल करने के लिए लगातार मजदूरों व मशीनरियों के साथ युद्धस्तर पर कार्य किया जा रहा था, लेकिन पहाड़ी से एनएच पर इतनी भारी-भरकम चट्टानें गिरी थीं कि मार्ग को बहाल करना भी मुसीबत बन चुका था। शुक्रवार शाम को लोगों ने मार्ग बहाल करने में हो रही देरी पर सरकार व प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी भी की। जिस पर शुक्रवार रात को भी मार्ग बहाली का कार्य लगातार जारी रहा व देर रात एक बजे यातायात छोटे वाहनों के लिए बहाल कर दिया गया। हालांकि पैदल यात्रियों के लिए मार्ग रात 11 बजे ही बहाल कर दिया गया था। इससे लोग अपने-अपने गंतव्य की ओर निकले। देर रात तक मौके पर डटे रहे अधिकारी

वहीं शुक्रवार देर रात तक प्रदेश वन निगम के उपाध्यक्ष सूरत नेगी, एसडीएम निचार मनमोहन सिंह ने भी अवरुद्ध मार्ग स्थल का निरीक्षण किया और एनएच प्राधिकरण व ग्रेफ को शीघ्र मार्ग बहाली के लिए दिशानिर्देश दिए। देर रात तक एसडीएम मनमोहन सिंह व एसडीपीओ भावानगर राजू अवरुद्ध मार्ग स्थल पर ही मौजूद थे। जल्द व सुरक्षित ढंग से कार्य हो इसके लिए जेएसडब्ल्यू कंपनी के प्रमुख सुरक्षा अधिकारी नितिन गुप्ता भी अपनी टीम के साथ मौके पर मौजूद थे। अब यातायात सामान्य होने पर जिले में जरूरी सामान की आमद भी शुरू हो गई है।

Edited By: Jagran