शिमला, राज्य ब्यूरो सिरमौर के गिरिपार को जनजातीय क्षेत्र घोषित करवाने का मामला वीरवार को दिल्ली में गृहमंत्री राजनाथ सिंह के दरबार में गूंजा। शिमला के सांसद वीरेंद्र कश्यप, भाजपा के प्रदेश महामंत्री चंद्रमोहन ठाकुर, केंद्रीय हाटी समिति के अध्यक्ष प्रोफेसार अमी चंद ने हाटियों का पक्ष प्रमुखता से रखा। मंत्री ने भरोसा दिया कि केंद्र सरकार इस इलाके का एसटी का दर्जा दिलाएगी। अमी चंद ने प्रस्ताव रद करने पर आपत्ति जताई। उन्होंने जनजातीय मंत्रालय के हालिया पत्र पर भी कड़ा रोष प्रकट किया। उन्होंने दोबारा सर्वे करने की बात को सिरे से खारिज किया।

महामंत्री ने पार्टी का पक्ष रखा। उन्होंने कहा कि भाजपा ने आम चुनाव के दौरान घोषणापत्र में वादा किया है। खुद राजनाथ सिंह ने नाहन में आयोजित चुनावी सभा में ऐलान किया था कि अगर पार्टी की केंद्र में सरकार बनी तो फिर उस सूरत में सिरमौर को बड़ी सौगात मिलेगी। सांसद ने राज्य सरकार के पक्ष को सामने रखा। वह इस मसले को संसद में कई बार उठा चुके हैं। पूर्व यूपीए सरकार में भी उन्होंने इसकी केंद्र से जोरदार पैरवी की थी। बैठक में रजिस्ट्रार जनरल ऑफ इंडिया शैलेश कुमार भी मौजूद रहे। इसके बाद तीनों नेताओं ने जनजातीय मंत्रालय के सचिव ने भी भेंट की।  

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने आश्वासन दिया है कि गिरिपार को एसटी का दर्जा दिलाया जाएगा। उन्होंने प्रतिनिधिमंडल में शामिल व्यक्तियों के पक्ष को पौने घंटे तक सुना। बैठक दोपहर के वक्त हुई थी।

-प्रोफेसर अमी चंद, अध्यक्ष, केंद्रीय हाटी समिति