शिमला, जेएनएन। राज्‍यपाल आचार्य देवव्रत ने गुजरात जाने से पूर्व बुधवार को शिमला में पत्रकारों से बातीचीत में कहा चार साल में प्रदेश की जनता से बेहतरीन सहयोग प्राप्त हुआ। उन्‍होंने कहा देश के शीर्ष नेतृत्व का भी आभार, जिसने गुजरात जैसे तेज़ी से विकास करने वाले प्रदेश की सेवा का मौका दिया है। आचार्य ने कहा गुजरात में अगर राजभवन में मदिरालय हुआ तो वहां यज्ञशाला भी बनाई जाएगी। प्रदेश के बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, नशाबंदी, प्राकृतिक खेती, गोवंश संवर्धन और युवाओं को नशाखोरी से दूर रखने जैसे मिशन की शुरुआत की थी, ये योजनाएं आज परवान पर हैं। सरकार और जनता का भरपूर सहयोग मिला। प्रदेश के सीएम प्राकृतिक खेती के मिशन में खुद बड़ी रुचि ले रहे हैं। उन्‍होंने प्राकृतिक खेती के संरक्षण संवर्धन के लिए समय निकालकर हिमाचल आने का भी वादा किया।

मोदी और अमित शाह जैसे दिग्गजों के प्रदेश गुजरात में राज्यपाल प्राकृतिक खेती की बड़ी संभावना देखते हैं। वहां पीने के पानी को बचाने और भूमि की उर्वरक शक्ति को बढ़ाने की अपार संभावनाएं हैं। हिमाचल में अभी तक 10 हज़ार के करीब किसान प्राकृतिक खेती को अपना चुके हैं, किसान इसका लाभ भी ले रहे हैं। हज़ारों किसानों को ट्रेनर बनाया गया है। आचार्य देवव्रत ने कहा हिमाचल का राज्यपाल रहते हुए कई कड़े फैसले और निर्णय लिए, जिसके लिए सभी ने सहयोग किया। सत्‍ता पक्ष और विपक्ष का भरपूर साथ और समर्थन मिला, इसके लिए सभी राजनीतिक दलों का आभार भी।

Posted By: Rajesh Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप