शिमला, जेएनएन। राजधानी शिमला में दुष्कर्म मामले में प्रत्यक्षदर्शी ने पीड़िता के आरोपों सही साबित करने का बयान पुलिस के सामने दिया है। छात्रा ने पुलिस पूछताछ में बताया था कि मौके से कुछ मीटर की दूरी में एक कार में मौजूद व्यक्ति से मदद मांगी थी। फिर पुलिस उक्त प्रत्यक्षदर्शी को ढूंढ कर पूछताछ के लिए थाने बुलाया। सूत्रों के मुताबिक 55 वर्षीय प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि उस रात वह अपने घर के पास अपनी कार पार्क कर रहा था। उसी समय यह लड़की दौड़ते हुए उसकी तरफ आई और कहा- अंकल जी मुझे बचाओे। उसने गाड़ी का शीशा नॉक किया। लड़की ने पूछा कि यह कौन सी जगह है? फिर उसको प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि हिल ग्रोव जगह है। इसी बीच लेकिन लड़की जिस स्थिति में थी, उसे देखकर घबरा गया था।

लेकिन कुछ ही सेकंड में इसी दौरान वहां मोटरसाइकिल पर दो युवक आए। उनमें से एक मोटा और एक पतला लड़का था। पतले लड़के ने अपनी कमीज उतारकर युवती को दी। इसके बाद वह लड़की उनके साथ बाइक पर बैठकर वहां से चली गई। प्रत्यक्षदर्शी ने  पुलिस के सामने युवती को मौके से ले जाने वाले जिस लड़के की शिनाख्त की है वो पीड़िता का ही दोस्त है । जिसे पीडिता ने बुलाया था। दोस्त की शिनाख्त कर दी है, जिसे कॉल कर बुलाया था।

दोस्त ने बाइक वाले से ली थी लिफ्ट

इस मामले में पीडिता के दोस्त ने बताया कि मौके पर एक युवक से लिफ्ट लेकर पहुंचा था। पीड़िता को मौके पर अपनी शर्ट दी लेकिन बाद में अपनी बहन के कपड़े उसे दिये थे। सूत्रों के अनुसार दोस्त की बहन से पूछताछ की है जिसमें कपड़ो की बात की पुष्टि हुई है। 

कार में नहीं हुआ है दुष्कर्म

सूत्रों के मुताबिक पीड़िता ने पुलिस पूछताछ में बताया है कि उसके साथ खुले में दुष्कर्म की वारदात हुई है। जहां सिर्फ अंधेरा ही था।  इसके साथ ही पैदल ही शिव मंदिर से आई थी। 

एसपी शिमला ओमपति जम्वाल ने कहा अभी लोगो से पूछताछ चल रही है । इस मामले को जल्द ही सुलझा लिया जाएगा। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Babita