शिमला, जागरण संवाददाता। कोरोना काल शुरू होने के बाद शिमला जिला में पहली बार सबसे ज्यादा मामले सामने आए हैं। जिले में कोरोना के एक साथ 22 मामले सामने आए हैं, इसमें 18 मामले रामपुर से सामने आए हैं। दो मामले रोहडू के मेहंदली से सामने आए हैं। ये दोनों मजदूर आजमगढ़ से सेब की ढुलाई के लिए पहुंचे थे। शिमला के भट्टा कुफर में भी कोरोना का एक मामला सामने आया है। जतोग कैंट में भी एक शख्‍स कोरोना पॉजिट‍िव पाया गया है। रामपुर के 18 मामले आइटीबीपी के जवानों के हैं, ये क्वारंटाइन में ही रखे थे। इसी तरह से रोहडू में संक्रमित पाए गए लोग भी क्वारंटाइन ही थे।

भट्टाकुफर और जतोग में आए मामले भी क्वारंटाइन के ही सामने आए हैं। जिला प्रशासन ने भट्टाकुफर में कोरोना संक्रमण का मामला सामने आने के बाद क्षेत्र को सील कर दिया है। शहर में इससे पहले चार मामले बालूगंज में आने के बाद से पूरे क्षेत्र को सील कर रखा है। भट्टाकुफर में कोरोना संक्रमण का केस आने के कारण सेब की खरीद फरोख्त नहीं हो पा रही है। वहीं मंडी के पिछले पहाड़ में हो रहे भूस्खलन से लोगों को बचाने के लिए खरीद फरोख्त को भी कुछ समय के लिए रोक दिया है।

Edited By: Rajesh Sharma