राज्य ब्यूरो, शिमला : केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जगत प्रकाश नड्डा ने कहा कि कांग्रेस स्वयं को सुप्रीम कोर्ट से ऊपर समझती है। राफेल मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने निर्णय सुनाया। लेकिन कांग्रेस नेता निर्णय को चुनौती दे रहे हैं। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी व पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह को राफेल मामले में देश की जनता से माफी मांगनी चाहिए।

नड्डा ने शिमला में पत्रकारों से कहा कि कांग्रेस ने राफेल खरीद पर सवाल उठाकर सेना का मनोबल गिराया है। राहुल गांधी जो जानकारी दे रहे हैं, उन्हें उसका स्रोत सार्वजनिक करना चाहिए। क्या राहुल गांधी को इस प्रकार की जानकारी देश के दुश्मनों से प्राप्त हुई या फिर वह जानबूझकर देश के हितों की अनदेखी करते रहे? यूपीए सरकार एक दशक तक राफेल से संबंधित करार पर निर्णय क्यों नहीं ले पाई। क्या बिचौलिए तय नहीं हो रहे थे या राफेल जहाजों की खरीद को लेकर कमीशन पर बात फाइनल नहीं हो पाई? हमारे पड़ोसी देशों के पास लड़ाकू जहाज पांचवें दर्जे के हैं जबकि हम अभी तक तीसरे दर्जे के जहाज खरीद रहे हैं। इसके लिए कांग्रेस जिम्मेदार है। राफेल मामले में कांग्रेस बेनकाब हो गई है। काग्रेस ने इस मामले में झूठ बोलकर राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरे में डाला है। यह डील वर्ष 2007 में की गई थी परंतु केंद्र में काग्रेस के शासन के दौरान इस विषय में कोई अंतिम निर्णय नही लिया गया। काग्रेस ने राफेल डील पर केवल राजनीतिक हितों को साधने तथा लोगों की भावनाओं से खेलने के लिए झूठ का सहारा लिया। कांग्रेस ने जिस तरह राफेल मामले पर झूठा प्रचार किया, उससे विधानसभा चुनाव के नतीजों पर भी असर पड़ा है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस