राज्य ब्यूरो, शिमला : हिमाचल के सेब बागवानों के करोड़ों रुपये डकारने के मामले में हिमाचल प्रदेश की सीआइडी आढ़तियों को महाराष्ट्र और बेंगलुरु में ढूंढ रही है। आरोपितों को जांच में शामिल करवाने के लिए एक टीम दूसरे राज्यों में भेजी गई है। यह टीम आढ़तियों को जांच में शामिल करने के लिए कानूनी सहारा ले रही है।

वहीं जांच एजेंसी ने शिमला में बीस और आढ़तियों को पूछताछ के लिए तलब किया है। कई से पहले चरण की पूछताछ हो भी गई है। कुछ ने नोटिस पहुंचते ही प्रभावित बागवानों के खातों में पैसे भी जमा करवा दिए हैं। सीआइडी के पास कुल 92 मामले दर्ज हैं। इनमें से एसआइटी अब तक 30 आरोपितों को गिरफ्तार कर चुकी है। आरोपितों के पास 30 करोड़ से अधिक की धनराशि फंसी हुई है। आठ करोड़ रुपये बागवानों को लौटा दिए गए हैं। दो हैं आरोपित

महाराष्ट्र से संबंध रखने वाले दो आढ़ती शिमला में दर्ज केस में आरोपित हैं। आरोप है कि इन आढ़तियों ने करीब 24 लाख रुपये की धोखाधड़ी की है। इसके अलावा कई ऐसे हैं जो आरोपित नहीं हैं, लेकिन उन पर केस में संलिप्त होने का शक है।

दैनिक जागरण ने उठाया था मामला

बागवानों से करोड़ों रुपये की लूट होने का मामला सबसे पहले दैनिक जागरण ने उठाया था। इसके बाद डीजीपी एसआर मरडी ने सीआइडी की विशेष जांच टीम गठित की थी। नौ माह में एसआइटी इन मामलों की गहनता से जांच की है। ------------

सीआइडी की टीम महाराष्ट्र और बेंगलुरु गई है। कई स्थानों पर आढ़तियों से पूछताछ कर रही है। कुछ की हमें तलाश है, जबकि कई से केसों के बारे में पूछताछ होनी है। अभी ताजा किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। अब तक सीआइडी प्रभावित बागवानों के आठ करोड़ रुपये से अधिक की राशि वापस करवा चुकी है। पिछले साल इस मामले में एसआइटी गठित की थी। वहीं जिन मामलों में पैसे पूरे चुका दिए हैं, उनमें क्लोजर रिपोर्ट तैयार कर दी है।

वीरेंद्र कालिया, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, सीआइडी, क्राइम

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस