जागरण संवाददाता, शिमला : कोरोना संकट में राजधानी शिमला के अस्पतालों में रक्त की कमी है। इसी कमी को पूरा करने और मरीजों की जान बचाने के लिए समरहिल निवासी अधिवक्ता सुमित योगदान दे रहे हैं। सरकारी शैक्षणिक संस्थानों में जहां रक्तदान शिविर आयोजित करने की अनुमति नहीं है वहीं सुमित ने घर में ही शिविर आयोजित कर मिसाल कायम की है। उन्होंने घर के पार्किंग क्षेत्र को सैनिटाइज कर शिविर लगवाया। इंदिरा गांधी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल (आइजीएमसी) शिमला की ब्लड बैंक सो आई टीम की सहायता से स्थानीय लोगों सहित पुलिस महिला कर्मियों ने रक्तदान किया। सुमित ने लोगों से अपील की है कि कोरोना संकट की स्थिति में आगे आकर जरूरतमंद लोगों की सहायता करें। सामर्थय के अनुसार सेवा में योगदान दें।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस