जागरण संवाददाता, शिमला : कोरोना महामारी के दौरान लोगों की सेवा, सुरक्षा, सहयोग के लिए मैदान में उतरे पुलिस कर्मी कोरोना की चपेट में आने लगे हैं। शिमला जिले में रोजाना पुलिस कर्मचारियों की रिपोर्ट पाजिटिव आ रही है। इसके बावजूद पुलिस कर्मचारी लोगों को कोरोना गाइडलाइन के पालन का संदेश देने के साथ नियमों का उल्लंघन करने वालों पर कार्रवाई कर रहे हैं। इस दौरान पुलिस के जवान खुद भी कोरोना पाजिटिव होने लगे हैं।

वहीं पुलिस कर्मियों को संक्रमण से बचाने के लिए अब शिमला पुलिस के जवान का कोरोना टेस्ट अनिवार्य होगा। अभी तक 1200 से ज्यादा जवानों का कोरोना टेस्ट हो चुका है। इनमें से 211 जवान कोरोना पाजिटिव हो चुके हैं। इसी तरह 23 के करीब जवान कोरोना को मात देकर स्वस्थ होकर ड्यूटी पर भी लौट चुके हैं। कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा है। कई बार लोग टेस्ट नहीं करवाते जिससे संक्रमण ज्यादा बढ़ता है। इसे देखते हुए पुलिस ने सभी जवानों का कोरोना टेस्ट करवाना अनिवार्य किया हुआ है। लक्कड़ बाजार चौकी को किया था सील

राजधानी शिमला स्थित लक्कड़ बाजार चौकी में पिछले सप्ताह एक साथ तीन जवान कोरोना पाजिटिव आए थे। जिसके बाद चौकी को तीन दिन के लिए सील कर दिया गया था। चौकी से संबंधित सभी शिकायतें सदर थाना में ही दर्ज की गई। एसपी कार्यालय में भी कई जवान कोरोना पाजिटिव आ चुके हैं। लोगों की सेवा के साथ अपना ध्यान भी रखें पुलिस कर्मचारी : एसपी

पुलिस के जवान चाहे थाने व चौकियों में कार्यरत हैं या फिर ट्रैफिक ड्यूटी पर, इनका सीधा संपर्क लोगों के साथ है। ऐसे में इनके कोरोना पाजिटिव होने की ज्यादा संभावना बनी रहती है। कई तरह के लोग शिकायतों को लेकर थाने व चौकियों में पहुंचते हैं। वहीं अपराधियों को पकड़ने, पूछताछ के लिए पुलिस जगह-जगह जाती है। एसपी शिमला डा. मोनिका भुटूंगरू ने सभी थाना व चौकी प्रभारियों को निर्देश दिए हैं कि कोविड प्रोटोकाल का पालन करें। लोगों की सेवा के साथ अपना ध्यान भी रखें।

Edited By: Jagran