-पांच सदस्यीय टीम की अध्यक्षता करेंगे सरकाघाट के डीएसपी

- गृह विभाग व पुलिस महानिदेशक ने एसपी से मांगी स्टेटस रिपोर्ट

-मजिस्ट्रेट के समक्ष पीड़िता के बयान दर्ज, फूट-फूट कर रोई

----------------------

जागरण संवाददाता, मंडी : देव आस्था के नाम पर सरकाघाट उपमंडल की गाहर पंचायत की वृद्ध महिला को डायन बताकर क्रूरता करने के मामले की जांच के लिए विशेष जांच दल (एसआइटी) का गठन किया गया है। डीएसपी सरकाघाट चंद्रपाल सिंह की अध्यक्षता में पांच सदस्यीय टीम बनाई गई है। इसे एक सप्ताह में रिपोर्ट देने के निर्देश दिए गए हैं।

गृह विभाग व पुलिस महानिदेशक ने पुलिस अधीक्षक मंडी से स्टेटस रिपोर्ट मांगी है। इससे जिले के कई पुलिस अधिकारियों पर गाज गिरने की अटकलें तेज हो गई हैं। पुलिस महानिरीक्षक मध्य क्षेत्र मंडी एन वेणुगोपाल ने पुलिस अधीक्षक कार्यालय से अब तक की जांच की रिपोर्ट तलब कर गृह विभाग व पुलिस महानिदेशक को भेज दी है। राज्य महिला आयोग को भी रिपोर्ट सौंपने की तैयारी चल रही है।

इस बीच, बुधवार को पीड़िता राजदेई के सरकाघाट अदालत में मजिस्ट्रेट के समक्ष बयान दर्ज किए गए। बयान दर्ज करवाते समय राजदेई मजिस्ट्रेट के समक्ष फूट-फूट कर रोई। हाईकोर्ट ने भी उपायुक्त मंडी से इस मामले में स्टेटस रिपोर्ट मांगी है। हाईकोर्ट में 18 नवंबर को मामले की सुनवाई होगी। जिला प्रशासन की तरफ से उसी दिन स्टेटस रिपोर्ट सौंपी जाएगी। सलाखों के पीछे पहुंचा आठ माह का बच्चा

अभिभावकों के अंधविश्वास का खामियाजा आठ माह के मासूम बच्चे को भी भुगतना पड़ रहा है। बच्चे के मां-बाप भी मामले में आरोपित हैं। ऐसे में दोनों न्यायिक हिरासत पर मंडी जेल में हैं। बच्चे की घर में देखभाल करने वाला कोई नहीं है। इस कारण मां उसे अपने साथ लेकर आई है। एएसपी ने सरकाघाट थाने के कर्मचारियों से की पूछताछ

बुधवार देर शाम अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पुनीत रघु ने सरकाघाट पहुंच कर वहां पुलिस थाना सरकाघाट के कर्मचारियों अधिकारियों से पूछताछ की। पुनीत रघु को पुलिस की भूमिका की जांच का जिम्मा सौंपा गया है।

-----------------

गृह विभाग व पुलिस महानिदेशक ने सरकाघाट मामले की स्टेटस रिपोर्ट मांगी थी। अब तक हुई कार्रवाई की रिपोर्ट भेज दी है। पीड़िता के मजिस्ट्रेट के समक्ष बयान कलमबद्ध करवाए गए हैं।

- गुरदेव शर्मा, पुलिस अधीक्षक मंडी। बड़ी बेटी व दामाद का आरोप,

जलाने की तैयारी में थे आरोपित

संवाद सहयोगी, सरकाघाट : पीड़िता राजदेई के अदालत में बयान दर्ज करवाने के बाद जांच अधिकारी ने राजदेई की बड़ी बेटी व दामाद के बयान दर्ज किए। दोनों ने आरोप लगाया कि मारपीट के बाद आरोपितों ने उनकी मां को जलाने की पूरी तैयारी कर रखी थी। श्मशानघाट ले जाने व वहीं पर पानी पिलाने की बात हो रही थी। मारपीट के दौरान अगर हिमाचल पथ परिवहन निगम (एचआरटीसी) की बस नहीं आती और चालक व परिचालक हिम्मत नहीं दिखाते तो जान बचाना मुश्किल हो जाती। चालक परिचालक ने पीड़िता व उसकी बेटी को भीड़ से बचाकर बस में चढ़ाया था। पुलिस चालक व परिचालक के बयान भी दर्ज करेगी। महिला क्रूरता मामले में 24 लोगों की गिरफ्तारी के बाद समाहल गांव में सन्नाटा पसरा हुआ है। कई घरों में ताले लटके हुए हैं। ग्रामीण कुछ भी बोलने को तैयार नहीं हैं।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप