मृगेंद्र पाल, गोहर

जिलास्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता के दौरान गोहर की खड्ड में खिलाड़ी की दर्दनाक मौत से घर का इकलौता चिराग बुझ गया। लाडले के आने का बेसब्री से घर में इंतजार कर रही मां को एक दिन पहले उसकी मौत की खबर ने बेसुध कर दिया है। इकलौते बेटे की इस तरह मौत पर मां का सहारा छिन गया है। मां समेत अन्य परिजन रो-रोकर बेहाल हैं। विजय कुमार के पिता हुकम चंद की मौत हो चुकी है। शिक्षकों की लापरवाही ने घर के इकलौते चिराग को सदा के लिए बुझा दिया है।

राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला गोहर में चल रही जिलास्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता के आयोजन में बच्चों की सुरक्षा के दावों की पोल खुल गई है। टूर्नामेंट से चार बच्चे खड्ड में नहाने चले गए। लेकिन शिक्षकों को इसका आभास तक नहीं होना प्रबंधन की लापरवाही को उजागर करता है।

आयोजकों की ओर से सभी छात्र खिलाड़ियों के लिए सभी सुविधाएं प्रदान की गई थीं। खिलाड़ियों को स्नान व शौच आदि की सुविधा स्कूल परिसर में ही थी। बावजूद इसके छात्रों को खड्ड में नहाने के लिए क्यों जाना पड़ा। स्कूल में सुरक्षा संबंधी बहुत बड़ी लापरवाही के कारण यह हादसा हुआ है। खेल प्रबंधन के पास छात्रों की देखभाल के लिए कोई पुख्ता इंतजाम नहीं थे। इसलिए खिलाड़ी बेरोकटोक खड्ड की ओर चले गए। पानी बहुत गहरा था जिसका अंदाजा बाहर से आए इन खिलाड़ियों को नहीं था। राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला गोहर में चल रही खेलकूद प्रतियोगिता में छात्र की मौत के बाद शोक की लहर है।

गोहर पुलिस ने स्कूल प्रबंधन की लापरवाही को देखते हुए मामला दर्ज कर लिया है। मौके पर पहुंचे नाचन के विधायक विनोद कुमार ने खिलाड़ी की मौत पर शोक व्यक्त किया। पुलिस को मामले की गहराई से जांच करने की बात कही है।

डीएसपी हितेश लखनपाल ने बताया मामला स्कूल की लापरवाही से जुड़ा है। जांच की जा रही है। लापरवाही बरतने वालों को बख्शा नहीं जाएगा।

----

लापरवाह शिक्षकों पर होगी कार्रवाई : घटना बेहद दुखद है। मामले की जांच की जाएगी। लापरवाही बरतने वाले शिक्षकों के खिलाफ आवश्यक कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

-अशोक कुमार शर्मा, उपनिदेशक, प्रारंभिक शिक्षा विभाग, मंडी।

Posted By: Jagran