जागरण संवाददाता, मंडी : भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आइआइटी) मंडी ने शिक्षा मंत्रालय के इनोवेशन सेल की अटल रैंकिग ऑफ इंस्टीट्यूशन ऑन इनोवेशन एचीवमेंट्स (एआरआइआइए) में पहली बार भागीदारी करते हुए देशभर में सातवां स्थान हासिल किया है। उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने मंगलवार को रैंकिग की घोषणा की। केंद्रीय वित्त पोषित संस्थानों की रैंकिग 2020 में यह स्थान दिया गया है। दूसरी पीढ़ी के आइआइटी में केवल आइआइटी मंडी को यह स्थान प्राप्त हुआ है।

उपराष्ट्रपति ने एक वर्चुअल आयोजन में परिणाम की घोषणा की। आइआइटी मंडी के निदेशक प्रो. अजीत कुमार चतुर्वेदी ने कहा कि देशभर में सातवां स्थान मिलना खुशी की बात है। व्यावहारिक रूप से सीखने की प्रक्रिया से बेहतर पाठ्यक्रम बनाने व ईको सिस्टम आधारित उद्योग पर जोर देने के अच्छे परिणाम मिले हैं। आइआइटी मंडी कैटलिस्ट ने 2017 से अब तक 75 से अधिक स्टार्टअप के लिए मदद की है। उद्योग जगत की रूपरेखा व उद्यमिता की मानसकिता दोनों दृष्टिकोणों से बदलाव आ रहा है। इस रैंकिग में 674 संस्थानों ने भागीदारी की। इस साल छह वर्गो में संस्थानों की रैंकिग की गई। इनमें केंद्रीय वित्त पोषण प्राप्त संस्थान, निजी संस्थान, निजी विश्वविद्यालय/डीम्ड विश्वविद्यालय, राज्य सरकार से वित्त पोषित स्वायत्त संस्थान, राज्य सरकार से वित्त पोषित संस्थान व केवल महिलाओं के शिक्षा संस्थान शामिल थे। रैंकिंग की घोषणा के दौरान केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक व शिक्षा राज्य मंत्री संजय शामराव धोत्रे उपस्थित रहे।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस