जागरण संवाददाता, मंडी : मनाली-चंडीगढ़ राष्ट्रीय राजमार्ग पर नागचला से पंडोह तक फोरलेन के काम के कारण बदहाल हुए सड़क मार्ग की रिपोर्ट सरकार ने फिर तलब की है। इसका काम कर रही कंपनी द्वारा बरती जा रही अनियमितताओं के चलते अब सरकार ने इस पर कड़ा रुख अपनाया है। दैनिक जागरण द्वारा इस मुद्दे को प्रमुखता से उठाए जाने के बाद उपायुक्त मंडी ने सड़क के फोटो सहित वर्तमान स्थिति से मुख्य सचिव को अवगत करवाया है। गत दिनों दिल्ली में भी इसी विषय पर बैठक हो चुकी है।

सरकार इसका काम कर रही कंपनी केएमसी के टेंडर रद करने की तैयारी में है। यही कारण है कि दिल्ली में बैठक के बाद पुन: इसकी रिपोर्ट तलब की गई है। उपायुक्त की ओर से भेजी गई रिपोर्ट को केंद्रीय एजेंसियों को भेजा जाएगा। सड़क पर पड़े गड्ढों और बार-बार आ रहे मलबे के कारण बंद हो रहे राष्ट्रीय राजमार्ग को बहाल रखने की जिम्मेदारी कंपनी की है, लेकिन इस मामले में कंपनी के हाथ खड़े हैं। इसकी कई शिकायतें सरकार तक पहुंची है। गत दिनों दिल्ली में मुख्य सचिव ने अपना पक्ष रखा है और अब आगामी कार्रवाई की तैयारी की जा रही है। ऐसे में कंपनी का टेंडर रद होना तय माना जा रहा है।

बता दें कि फोरलेन का काम कंपनी ने जुलाई 2020 तक पूरा करना था, लेकिन अभी तक 33 प्रतिशत काम ही हुआ है। इसमें भी सड़क मार्ग की हालत खस्ता है। मुख्य सचिव को मनाली-चंडीगढ़ राष्ट्रीय राजमार्ग की वर्तमान स्थिति से अवगत करवाया गया है। मार्ग के फोटो सहित अन्य जानकारी दी गई है।

-अरिदम चौधरी, उपायुक्त मंडी।

Edited By: Jagran