सहयोगी, गोहर : मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने मंडी जनपद के आराध्य देव कमरुनाग की पवित्र झील से सोना-चांदी चुराने के प्रयास की जांच करवाने के आदेश दिए हैं। सरकार के आदेश के बाद पुलिस प्रशासन हरकत में आया है। थाना गोहर की ओर से पुलिस टीम जांच में जुट गई है। हालांकि इस संबंध में मंदिर कमेटी व स्थानीय पंचायत ने शिकायत दर्ज नहीं करवाई है।

घटना सप्ताह भर पहले की बताई जा रही है। शातिरों ने पहरेदारों को कमरे में बंद कर झील से सोना-चांदी चुराने का प्रयास किया है। मंदिर स्थल पर ढाबा संचालकों को भी हथियार दिखाकर धमकाया। सोना-चांदी और नकदी निकालने के लिए झील से कथित छेड़छाड़ की गई है। लाठियां लेकर शातिरों के मंदिर में घुसने का वीडियो एक पहरेदार ने मोबाइल फोन से बनाया है। मंदिर स्थल पर लगे अधिकतर सीसीटीवी कैमरे खराब पड़े हैं।

कमरुनाग देवता की झील में हर साल सरानाहुली मेले में लोग मन्नत पूरी होने पर सोना-चांदी और नकदी अर्पित करते हैं। मंदिर में देवता को चढ़ाया गया चढ़ावा भी झील को समर्पित कर दिया जाता है। ऐसे में झील के अंदर अकूत खजाना छिपा है। इस खजाने को झील से आज तक कोई नहीं निकाल पाया है। ऐसा माना जा रहा है कि गत दिनों सोना-चांदी लूटने के इरादे से आए शातिर भी खाली हाथ लौटे हों। कमरुनाग झील से शातिरों ने ऐसे प्रयास अनेक बार किए गए हैं, लेकिन उनके मंसूबे सफल नहीं हो पाए हैं।

देवता के पूर्व कटवाल रणजीत सिंह ठाकुर ने घटना की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि देवलू कमेटी से चर्चा करने के बाद घटना की पुलिस को सूचना दी जा रही है। वर्तमान कटवाल काहन सिंह ने बताया कि इस बारे में उन्हें व देवता कमेटी को जानकारी मिली है। सत्यता जानने की कोशिश की जा रही है। देवता कमेटी, पंचायत व अन्य माध्यम से कोई भी शिकायत प्रशासन व पुलिस के पास नहीं आई है। प्रशासन अपने स्तर पर मामले की जांच करवा रहा है। मंदिर कमेटी को झील की सुरक्षा बढ़ाने व सीसीटीवी कैमरे ठीक करने के निर्देश दिए हैं।

-रमण शर्मा, एसडीएम गोहर।

Edited By: Jagran

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट