संवाद सहयोगी, मंडी : भारतीय मजूदर संघ ने मंडी में शुक्रवार को पुरानी पेंशन बहाली और महंगाई को लेकर शुक्रवार को आवाज बुलंद की है। इस दौरान भामसं कार्यकर्ताओं ने केंद्र और प्रदेश सरकार के खिलाफ सेरी मंच के समीप जमकर प्रदर्शन किया है। मजदूर संघ ने सेरी मंच से इंदिरा मार्केट होते हुए महामृत्युंजय चौक और गांधी चौक होते हुए लाइब्रेरी तक रोष रैली निकाली। अपनी विभिन्न मांगों को लेकर उपायुक्त ऋग्वेद ठाकुर के माध्यम से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक ज्ञापन भी भेजा है।

संघ ने ज्ञापन में आशा कार्यकर्ताओं को सरकारी कर्मचारी घोषित करने की मांग उठाई है। आंगनबाड़ी व मिड-डे मिल कार्यकर्ताओं को भी सरकारी कर्मचारी बनाने की मांग रखी है। संघ ने सरकार की विनिवेश नीति का भी कड़ा विरोध किया है और सरकारी उपक्रमों की बिक्री को बंद करने की मांग भी की है। इसके अलावा मजदूर संघ प्रदेश के विभिन्न विभागों में आउट सोर्सिंग पर जो कर्मचारी कार्य कर रहे हैं, उनके लिए नियमित करने की गुहार लगाई है। साथ ही ठकेदारी प्रथा के अधीन काम कर रहे श्रमिकों को समान काम व वेतन, महिला कामगारों को न्यूनतम वेतन, न्यूनतम पेंशन की राशि कम से कम पांच हजार प्रतिमाह, आयकर की गणना के लिए कर योग्य राशि पांच लाख से बढ़ाकर आठ लाख, बेरोजगार समाप्त और ग्रामीण डाक सेवकों को सरकारी कर्मचारी घोषित करने की मांग भी उठाई है। मजदूर संघ ने प्रदेश सरकार को चेताया है कि यदि मांगों को जल्द पूरा नहीं किया गया तो संघ आवाज और बुलंद करंगा। इस अवसर पर मजदूर संघ के प्रदेशाध्यक्ष डीडी शर्मा, प्रधान हेमराज ठाकुर, सचिव जय सिंह ठाकुर, लता ठाकुर, रजनीश वालिया, हेम राज, जय सिंह, अशोक, खेम सिंह, मोती राम सहित अन्य सदस्य उपस्थित रहे हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस