संवाद सहयोगी, कुल्लू : जिला मुख्यालय कुल्लू में विभिन्न स्थानों पर नदी-नालों व खड्डों में कचरा फेंका जा रहा है। नगर परिषद कुल्लू की ओर से शहर में डोर टू डोर कचरा उठाने की योजना चलाई जा रही है बावजूद इसके कुछ लोग नगर परिषद के कर्मियों को कूड़ा न देकर यहां-वहां फेंक रहे हैं।

शहर के साथ लगती जीवनदायिनी ब्यास नदी व सरवरी खड्ड के किनारे भी कचरे के ढेर लगे हुए हैं और यह कूड़ा बारिश के दौरान नदियों में समा रहा है। इससे जहां पर्यावरण को नुकसान हो रहा है वहीं, नदी व खड्ड में गंदगी घुल रही है। शहर के विभिन्न वार्डों में कुछ लोग कचरा ब्यास में फेंककर नियमों की सरेआम धज्जियां उड़ा रहे हैं। बावजूद इसके नगर परिषद कुल्लू इस समस्या को लेकर गंभीर नहीं दिख रही है। वहीं, नगर परिषद के सभी वार्ड की हालत भी खराब है। जगह-जगह कूड़े के ढेर लगे हैं। कई जगह कूड़ा नदियों, खड्डों व नालों में तो कहीं जलाकर ठिकाने लगाया जा है। ब्यास नदी व सरवरी खड्ड में लगे कूड़े के ढेर प्रदूषण तो फैला ही रहे हैं साथ ही नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के नियमों को भी ठेंगा दिखा रहे हैं।

वार्डवासी रामकृष्ण, शिवानी, तेंजिन डोलमा, कमला, व राहुल का कहना है कि शहर में कई जगह खुले में कूड़ा फैला हुआ है। नदी किनारे भी कूड़े कचरे के ढेर लगे हुए हैं। कुछ कूड़ा ब्यास में बह रहा है। लोगों के अनुसार नगर परिषद कुल्लू व प्रशासन को इसके लिए ठोस कदम उठाने चाहिए, ताकि कोई गंदगी न फैलाए और नदियों को प्रदूषित होने से बचाया जा सके। सभी वार्ड में सफाई व्यवस्था को सुदृढ़ किया जा रहा है। सफाई कर्मचारियों को सख्त निर्देश दिए हैं कि समय पर कूड़ा उठाएं। कुछ लोग हर कहीं कूड़ा फेंक देते हैं, ऐसे लोगों पर सीसीटीवी कैमरों से नजर रखी जा रही हैं, चालान भी काटे जा रहे हैं। लोगों से अपील है कि शहर आपका है इसे साफ रखने में सहयोग करें।

-बीआर नेगी, कार्यकारी अध्यक्ष नगर परिषद कुल्लू।

Edited By: Jagran