सुरेश कौशल, योल

हर गांव में जल हर घर में नल योजना के तहत सरकार हरसंभव प्रयास कर रही है, लेकिन कुछ गांव ऐसे भी हैं, जहां सरकार के प्रयास भी अधर में लटके हुए हैं। ऐसा ही मामला धर्मशाला विकास खंड की तंगरोटी पंचायत में सामने आया है। जहां अनुमानित 1.65 करोड़ की लागत से जल शक्ति विभाग ने मडौघ बल्ला में ट्यूबवेल की बोरिग का कार्य शुरू किया, लेकिन पानी क्षमता से कम निकलने से विभाग ही नहीं लोगों को भी निराशा होने लगी है।

हालांकि अभी वोरिग चल तो रही है, लेकिन पर्याप्त मात्रा में पानी मिलने की आस कम ही है। इस ट्यूबवेल से चार सौ घरों में पानी की समस्या दूर होनी है। वैसे भी इस गांव में पेयजल की समस्या अक्सर रहती है। अब विभाग आगे क्या योजना बनाता है यह तो समय ही बता पाएगा। गांव में पिछले काफी समय से पानी की समस्या चल रही है, क्योंकि जो पाइपलाइन बिछी हैं। यह काफी पुरानी है। अब कनेक्शन बढ़ गए हैं और टैंक वहीं पुराने हैं। इसलिए टयूबवेल का होना जरूरी है।

-अंकेश डोगरा, उप-प्रधान तंगरोटी पंचायत। गांव में टयूबवेल की बोरिग होने से लोगों को पानी की समस्या से निजात मिलने की आस बंधी थी, लेकिन पर्याप्त मात्रा में न निकलने से लोग निराश होने लगे हैं। विभाग को कोई अन्य विकल्प तलाश करनी चाहिए।

-नरेंद्र वालिया। पिछले कई वर्षो से पुराने बने टैंकों से पूरे गांव को सप्लाई हो रही है। तब दर्जनों नल थे। अब सैकड़ों हो चुके हैं ऐसे में पानी की आपूर्ति कैसे होगी। टयूबवेल से आस है पता नहीं कब पूरी होगी।

-अशोक कुमार।

पानी की समस्या को दूर करने के लिए टयूबवेल की योजना को लेकर लोगों ने काफी जद्दोजहद की थी, लेकिन पानी क्षमता से कम निकलने पर लोगों को झटका लगा। जल शक्ति विभाग इस स्कीम को सफल बनाने का प्रयास करें।

-सन्नी कौंड़ल। अनुमानित 1.65 करोड़ रुपये की लागत से गांव में टयूबवेल का कार्य करवा रही है, लेकिन पानी कम निकल रहा है अभी बोरिग की जा रही है। विभाग अन्य विकल्प भी तलाश रहा है।

-सरवन ठाकुर, अधिशाषी अभियंता जल शक्ति मंडल धर्मशाला।

Edited By: Jagran