धर्मशाला, जेएनएन। शाहपुर विधानसभा क्षेत्र की उपतहसील हारचक्कियां की दो पंचायतें बरसात में भी पेयजल संकट झेल रही हैं। हारचक्कियां और ठेहड़ पंचायतों की करीब दो हजार आबादी को पानी के गंभीर संकट से जूझना पड़ा रहा है। 

स्थानीय लोगों हारचक्कियां के पूर्व उपप्रधान तिलक राज, मोती राम, दलेर सिंह, किरण बाला, राधा देवी, अशोक कुमार, गुलदीप सिंह, बिमला देवी और शकुंतला देवी ने बताया कि ठेहड़ और हारचक्कियां पंचायतों में करीब दो माह से पानी का संकट चल रहा है। इस कारण लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इन पंचायतों को नगोल-धुलाड़ी-सरड़ोली योजना से पानी की आपूर्ति होती है।

लोगों का कहना है कि इस बरसात के मौसम में पेयजल योजना में बरसात का पानी घुसने के कारण समस्या पैदा हुई है पर सिंचाई एवं जनस्वास्थ्य विभाग अभी तक इस समस्या का समाधान नहीं कर पाया है। विभाग के पास समस्या रखी जाती है तो जल्द समाधान का आश्वासन मिलता है। ऐसे आश्वासन सुनते- सुनते दो माह बीत चुके हैं। लोगों का काफी समय हैंडपंप और प्राकृतिक स्रोतों से पानी भरने में ही निकल जा रहा है। इतना ही नहीं इस योजना से गंदे पानी की आपूर्ति भी होती रही है।

लोगों का कहना है कि आइपीएच विभाग काफी समय से उनकी योजना की केबल तार बाढ़ के पानी में बहने

की बात कह रहा है, पर अभी तक इस केबल का इंतजाम विभाग नहीं कर पाया है। साथ ही मशीनरी को पानी से नुकसान पहुंचने की बात भी कही जा रही है। प्रभावित लोगों ने सवाल उठाया है कि बरसात में ही विभाग पानी नहीं दे सकता तो क्या गर्मियों में देगा।  

जल्द होगा समस्या का समाधान : एसडीओ

मनेई स्थित आइपीएच विभाग के सहायक अभियंता कमल शर्मा ने बताया कि क्षेत्र में पानी की समस्या चल रही है। बरसात में पंप हाउस में पानी घुस गया था। इससे मशीनरी को नुकसान पहुंचा है। इसके साथ ही केबल भी पानी में बह गई थी। मशीनरी को ठीक किया जा रहा है। कुछेक क्षेत्रों में पानी की आपूर्ति बहाल कर दी गई है, बाकी जगह आज की जा रही है। दावा किया कि चार दिन में इस क्षेत्र में पानी की समस्या पूरी तरह से हल हो जाएगी। 

Posted By: Babita