मनाली, जागरण संवाददाता। Snowfall In Lahaul, हिमाचल प्रदेश में मौसम ने करवट बदल ली है। बारालाचा सहित जिला लाहुल स्पीति के सभी दर्रों में बर्फबारी का क्रम शुरू हो गया है। बर्फबारी से दर्रों की बहाली में जुटे बीआरओ का कार्य भी प्रभावित हो गया है। दिन रात काम करते हुए बीआरओ मनाली-लेह मार्ग की बहाली के करीब पहुंच गया था लेकिन शुक्रवार रात से साढ़े 15 हजार फीट ऊंचे बारालाचा दर्रे में एक बार फिर बर्फ़बारी शुरू हो गई है। दूसरी और कुंजम दर्रे के बातल में फंसे सभी 59 पर्यटकों को काजा प्रशासन ने स्थानीय लोगों की मदद से रेस्क्यू कर लिया है। लेकिन बातल में अभी भी 21 लोग व वाहन चालक अपने वाहनों के साथ फंसे हुए हैं। इस मार्ग पर ग्रांफु से लोसर तक जगह-जगह ग्लेशियर गिरे हैं, जिस कारण सड़क बहाली में देरी हुई है।

हालांकि बीआरओ अभी भी सड़क बहाल कर रहा है। लेकिन अब मौसम बाधा बन गया है। सरचू में फंसे सभी पर्यटक व वाहन लेह वापस लौट गए हैं। लेह में फंसे मनाली के वाहन बाया श्रीनगर जम्मू होते हुए मनाली आ रहे हैं। बीते रविवार को बर्फबारी के बाद फंसे सैलानियों और आम लोगों को रेस्क्यू करने के बाद अब लाहुल-स्पीति प्रशासन सख्त हो गया है।

उपायुक्त लाहुल-स्पीति नीरज कुमार ने कहा मौसम विज्ञान केंद्र शिमला की ओर से जारी चेतावनी के मद्देनजर जिले में 23 व 24 और 27 से 29 अक्तूबर तक बर्फबारी की संभावना व्यक्त की गई है। इस अलर्ट को ध्यान में रखते हुए मनाली-लेह मार्ग पर अटल टनल रोहतांग से आगे वाहनों की आवाजाही बंद रहेगी। उन्होंने कहा कोई भी व्यक्ति और सैलानी खतरे वाली जगह पर आवाजाही न करे।

उपायुक्त ने विशेष रूप से अन्‍य राज्यों से आने वाले पर्यटकों से आग्रह किया कि वे आने वाले समय में भी इस तरह के प्रतिकूल मौसम के दौरान लाहुल का रुख न करें। एसपी लाहुल स्पीति मानव वर्मा ने कहा सभी दर्रों पर वाहनों की आवाजाही बंद कर दी गई है। जिले में लोग मौसम साफ होने के बाद ही सफर पर निकलें।

Edited By: Rajesh Kumar Sharma