जागरण टीम, बैजनाथ : शिव मंदिर ट्रस्ट बैजनाथ की शुक्रवार को आयोजित बैठक में जबरदस्त हंगामा हुआ और सदस्यों ने बैठक का बहिष्कार भी किया। बैठक एसडीएम छवि नैंटा की अध्यक्षता में बुलाई गई थी। मगर मंदिर अधिकारी के रवैये के कारण सभी ट्रस्टियों ने बैठक का विरोध किया। सदस्यों का आरोप है कि उन्होंने प्रस्ताव पारित किया था कि मंदिर की पार्किंग की नीलामी बंद लिफाफे में कोटेशन के आधार पर की जाए जिसे एसडीएम ने तो स्वीकार कर लिया लेकिन मंदिर अधिकारी खुले में बोली करवाने पर अड़े रहे। उन्होंने आरोप लगाया कि मंदिर अधिकारी के रवैये के कारण खीर गंगा घाट को जाने वाली सीढि़यों का कार्य आज तक नहीं हो सका है। गोसदन में कार्यरत अश्वनी को भी काम से निकालने का फरमान उन्होंने जारी कर दिया है जबकि अश्वनी एक गरीब परिवार से संबंधित हैं।

------------------

अगर मंदिर के बनाए गए ट्रस्ट में पारित कार्यो को अमलीजामा न बनाया जाए तो ऐसे ट्रस्टी बनने से क्या फायदा। पिछले महीने में जो भी कार्य मंदिर ट्रस्ट ने पारित किए थे उनमें कोई भी कार्य नहीं हुआ है।

-अनिल शर्मा, व्यापार मंडल प्रधान।

----------------

बैठक में सदस्यों के साथ सहमति नहीं बन सकी। इस कारण सदस्यों ने बैठक का बहिष्कार कर दिया। ऐसे में बैठक को रद कर दिया गया है।

-पवन कुमार, तहसीलदार बैजनाथ

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप