पालमपुर, जागरण संवाददाता। पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार ने कंगना के संवैधानिक अधिकारों को कुचलने को लेकर आपत्ति जाहिर की है। शांता कुमार ने इस पूरे घटनाक्रम को लेकर महाराष्ट्र के राज्यपाल को पत्र लिख कर वहां की सरकार द्वारा कंगना के संवैधानिक अधिकारों को कुचलने पर चिंता प्रकट प्रकट की है। उन्होंने राज्यपाल से यह मांग भी उठाई है कि कंगना को अपने संवैधानिक अधिकार से वंचित न किया जाए और महाराष्ट्र की प्रदेश सरकार को संविधान की मर्यादाओं उल्लंघन करने से रोका जाए। इस प्रकार से बदले की भावना से प्रेरित होकर कंगना से किए गए अन्याय के लिए सरकार के विरुद्ध उचित कार्रवाई हो।

शांता कुमार ने राज्यपाल से उम्‍मीद जताते हुए कहा कंगना को पूरी सुरक्षा व न्याय मिलेगा। यहां जारी एक बयान में शांता कुमार ने कहा हिमाचल प्रदेश एक प्रतिभाशाली बेटी कंगना के संबंध में एक शिव सेना सांसद ने सभ्यता और शालीनता की सारी सीमाएं तोड़कर शर्मनाक शब्दों का प्रयोग किया है। इसके बाद महाराष्ट्र सरकार ने कंगना के सभी संवैधानिक अधिकारों को कुचल कर उसके घर पर बुलडोजर चला दिया। यह सारी कार्रवाई इतनी बर्बर है कि लोकतंत्र और सभ्य समाज में इसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती। शांता कुमार ने कहा हम सब हिमाचलवासी और कंगना का पूरा परिवार बहुत अधिक चिंता में हैं।

हिमाचल की इस साहसी और प्रतिभाशाली बेटी ने मुंबई में सिनेमा जगत में अपना प्रशंसनीय स्थान बनाया है। उन्होंने कहा भ्रष्टाचार तथा सिनेमा जगत में व्याप्त बुराइयों के संबंध में कंगना को अपने विचार प्रकट करने का संविधान पूरा अधिकार देता है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस