शिमला, जागरण संवाददाता। President In Shimla, रिज मैदान पर घूमने पहुंचे राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द ने बेहद सरल स्वभाव में लोगों से बातचीत की। उन्होंने पूछा, 'मेरी वजह से आपको कोई तकलीफ तो नहीं हुई, आप लोग घूमने का आनंद ले रहे हैं न'। राष्ट्रपति ने यहां लोगों का अभिवादन भी स्वीकार किया। हालांकि लोगों ने किसी भी तरह की परेशानी से इन्कार करते हुए जिला प्रशासन के कार्यों की सराहना की। चार दिवसीय दौरे पर शिमला पहुंचे राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द शनिवार को इससे पहले परिवार के साथ जाखू हनुमान मंदिर पहुंचे। शाम चार बजे वे रोपवे से जाखू पहुंचे। एक घंटा 15 मिनट तक वे वहीं रहे। सवा पांच बजे रोपवे से ही वापस लौटे और रिज मैदान पर रुके। रिज व मालरोड पर राष्ट्रपति ने स्वजन के साथ सैर की। एचपीएमसी के काउंटर पर राष्‍ट्रपत‍ि ने पापकार्न खरीदे, जिसका बिल स्‍वयं उन्‍होंने अदा किया। परिवार के सभी सदस्‍यों ने यहां पापकार्न खाए। इसके बाद लोगों से बातचीत की।

राष्ट्रपति के दौरे को लेकर शहर में सुरक्षा का पहरा कड़ा किया गया है। इस कारण लोगों को कुछ परेशानी भी हुई है। कारोबारियों ने भी राष्ट्रपति के आगमन के दौरान दुकानों के शटर बंद करने का विरोध किया था। इसके बाद राष्ट्रपति ने ही निर्देश दिए थे कि लोगों को किसी भी तरह की दिक्कत पेश नहीं आनी चाहिए। इस कारण ही राष्ट्रपति के रिज मैदान पर घूमते हुए भी बाजार में दुकानें खुली थीं।

शहरी विकास मंत्री और राष्ट्रपति के मिनिस्टर इन वेटिंग सुरेश भारद्वाज ने कहा कि इससे राष्ट्रपति का साधारण और सहज व्यक्तित्व झलकता है। इस तरह से राष्ट्रपति का आम लोगों से घुलना-मिलना अपने आप में अनोखा अनुभव है। भारद्वाज ने कहा कि राष्ट्रपति ने लोगों से बातचीत कर उनसे अनुभव साझा किया। इस पर लोगों ने राष्ट्रपति को बताया कि वे उनके आने से बेहद खुश हैं और वह शिमला में ही रहें।

बच्ची ने मिलने की जिद की

राष्ट्रपति परिवार के साथ प्रोटोकाल में जब रिज पर घूम रहे थे तो भीड़ में खड़ी एक बच्ची ने राष्ट्रपति को पुकारा और मिलने की जिद की। राष्ट्रपति ने खुद बच्ची को अपने पास बुलाया और उससे हाथ मिलाया। उन्होंने बच्ची के साथ फोटो भी खिंचवाई। इसके अलावा भी उन्होंने फोटो खिंचवाए।

रिज से जाखू तक सफर

राष्ट्रपति का सुबह 11 बजे जाखू मंदिर जाने का कार्यक्रम था। बाद में इसमें बदलाव किया गया। इस दौरान रिट्स से लेकर जाखू तक 25 गाडिय़ों का काफिला रिहर्सल करता रहा। पुलिस ने इस रूट में जो खामियां थी, उन्हें तुरंत दुरुस्त किया। इस मार्ग पर सुबह चूना किया गया व जो तारें जगह-जगह लटकी थी, उन्हें भी हटाया गया। हालांकि वीवीआइपी मूवमेंट के दौरान शाम के समय कर्मचारियों को आफिस से घर पहुंचने में दिक्कत हुई।

Edited By: Rajesh Kumar Sharma