शिमला, जागरण संवाददाता। राज्य के सरकारी स्कूलों में 10वीं कक्षाओं के विद्यार्थियों को प्रमोट करने की तैयारी है। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की तर्ज पर राज्य सरकार यह निर्णय ले सकती है। शिक्षा विभाग द्वारा आयोजित की गई फस्र्ट और सेकेंड टर्म की परीक्षाओं व प्री बोर्ड में छात्रों की परफॉर्मेंस को प्रमोट करने का आधार बनाया जाएगा। विभागीय स्तर पर इसका पूरा प्लान तैयार कर लिया गया है। निर्णय लेने से पहले शिक्षा विभाग ने इसको लेकर हितधारकों से राय मांगी है। निदेशक उच्चतर शिक्षा विभाग डॉ. अमरजीत शर्मा की ओर से इस संबंध में सभी जिलों के उप शिक्षा निदेशक, स्कूल प्रधानाचार्य, मुख्य अध्यापकों के साथ स्कूल शिक्षा बोर्ड से मान्यता प्राप्त सभी निजी स्कूल प्रबंधकों से सुझाव मांगे गए हैं। 24 अप्रैल तक उन्हें सुझाव निदेशालय को भेजने को कहा गया है। स्कूलों में बनी एसएमसी, पीटीए, शिक्षक, गैर शिक्षक संगठनों सहित अन्य लोग भी इसको लेकर अपने सुझाव शिक्षा विभाग को भेज सकते हैं। निदेशक उच्चतर शिक्षा डॉ. अमरजीत शर्मा की ओर से जारी सर्कुलर में सात ङ्क्षबदुओं पर सुझाव मांगे गए हैं। लोगों को 24 अप्रैल तक का समय दिया गया है।

सुझाव आने के बाद होगी बैठक

निदेशक उच्चतर शिक्षा विभाग डॉ. अमरजीत शर्मा की ओर से जारी पत्र में कहा गया है कि 24 अप्रैल तक सभी अपने सुझाव शिक्षा निदेशालय भेजें। विभाग आने वाले दिनों में इसको लेकर शिक्षक संगठनों, गैर शिक्षक संगठन, एसएमसी, पीटीए, निजी स्कूल प्रबंधकों के अलावा अन्य हितधारकों के साथ बैठक करेगा। बैठक में सभी मुद्दों पर विस्तृत चर्चा के बाद निर्णय लिया जाएगा।