जागरण संवाददाता, धर्मशाला : जिला कांगड़ा में बुधवार को बसों में कोरोना के नियमों का लोगों व ऑपरेटरों ने सख्ती से पालन किया। सरकार द्वारा बसों में 50 फीसद सवारियां बैठाने के फैसले के बाद बसों में लोगों की भीड़ कम रही। हालांकि पहले बसों में भीड़ अधिक रहती थी।

जिला मुख्यालय धर्मशाला में लोगों की भीड़ कम रहने का बड़ा कारण यह भी है कि यहां उपायुक्त व पुलिस अधीक्षक कार्यालय आम जनमानस के लिए बंद हैं। वहीं बस ऑपरेटरों ने भी सरकार के निर्णय का समर्थन करते हुए कम ही सवारियों को बसों में बैठाया।

हालांकि कोरोना संकट के चलते बस ऑपरेटरों ने काफी समय के बाद बसों को शुरू किया था, लेकिन अब सरकार के आदेश के बाद बसों में कम ही सवारियां बैठाई गई।

------------------ सरकार के फैसले का स्वागत करता हूं। बसों में 50 फीसद से अधिक सवारियां नहीं बैठाई जा रही हैं। कोरोना काल में भी बसें बंद थीं और हालात सुधरने के बाद निजी बस चालकों ने बसों को चलाया है। लेकिन फिर से सरकार का फैसला बसों में कम सवारियों को बैठाने का आया है जोकि स्वागत योग्य है। सरकार टैक्स में कुछ देकर राहत प्रदान करे।

-रविदत्त शर्मा, प्रधान जिला कांगड़ा प्राइवेट बस ऑपरेटर वेलफेयर सोसायटी।

----------------- सरकार का फैसले के अनुसार कोरोना से बचाव के लिए बसों में कम ही सवारियों को बैठाया जा रहा है। सरकार के नियमों का पालन कर रहे हैं। टैक्स में कुछ राहत देने का मामला मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के समक्ष उठाया है।

-हैप्पी अवस्थी, जिला प्रधान प्राइवेट बस ऑपेटर यूनियन।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप